Move to Jagran APP

अनंतनाग-राजौरी सीट पर चुनाव टलने से नाराजगी, NC ने कहा- महज भूस्खलन के लिए... इतिहास में कभी ऐसा नहीं देखा

अनंतनाग-राजौरी सीट पर मतदान की तारीख टालने को लेकर नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) ने निर्वाचन आयोग (Election Commission) पर कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा कि ये (चुनाव टालना) हमारे ऊपर निर्भर नहीं था चुनाव आयोग ने इसे टाल दिया है उन्हें बधाई। बता दें कि पहले अनंतनाग-राजौरी सीट पर सात मई को चुनाव होने वाले थे जो मौसम के चलते अब 25 मई को होंगे।

By Agency Edited By: Deepak Saxena Published: Wed, 01 May 2024 04:14 PM (IST)Updated: Wed, 01 May 2024 04:14 PM (IST)
फारूक अब्दुल्ला ने अनंतनाग सीट पर मतदान टालने को लेकर कसा तंज।

पीटीआई, राजौरी/जम्मू। नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने अनंतनाग-राजौरी लोकसभा सीट पर मतदान 25 मई तक स्थगित करने के लिए भारतीय चुनाव आयोग (ईसीआई) पर कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा कि देखिए, ये (चुनाव टालना) हमारे ऊपर निर्भर नहीं था, चुनाव आयोग ने इसे टाल दिया है, उन्हें बधाई।

चुनाव आयोग ने इसे टाल दिया, उन्हें बधाई- फारूक अब्दुल्ला

डॉ. अब्दुल्ला ने कहा कि उन्हें निर्वाचन क्षेत्र के लोगों का पूरा समर्थन प्राप्त है। अब्दुल्ला ने अनंतनाग-राजौरी सीट पर चुनाव स्थगित करने के बारे में एक सवाल के जवाब में संवाददाताओं से कहा कि देखिए, यह (चुनाव टालना) हमारे ऊपर निर्भर नहीं था। चुनाव आयोग ने इसे टाल दिया है। उन्हें बधाई।

अनंतनाग-राजौरी सीट पर पार्टी की ताकत और उसकी जीत की संभावनाओं के बारे में एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मैं केवल यही कह सकता हूं, मुझे लोगों पर पूरा भरोसा है। हमें अल्लाह पर पूरा भरोसा है।

एनसी उम्मीदवार मियां अल्ताफ ने भी ECI पर साधा निशाना

एनसी उम्मीदवार और पूर्व मंत्री मियां अल्ताफ अहमद ने भी ECI पर निशाना साधा और दावा किया कि उन्होंने चुनाव के इतिहास में चुनाव टालने का ऐसा उदाहरण नहीं देखा है। अल्ताफ ने यहां संवाददाताओं से कहा कि इतिहास में ऐसा कोई उदाहरण नहीं है कि चुनाव टाल दिया गया हो। मैंने ऐसा उदाहरण कभी नहीं सुना कि महज भूस्खलन के कारण चुनाव स्थगित कर दिया गया हो। ऐसा पहली बार हुआ है, यह एक अलोकतांत्रिक कदम है।

इस कदम से बढ़ेगा लोगों में गुस्सा- मियां अल्ताफ अहमद

उन्होंने आरोप लगाया कि सिस्टम के खिलाफ लोगों का गुस्सा और बढ़ेगा। इस तरह के कदम का कोई औचित्य नहीं है। राजौरी-पुंछ बेल्ट के साथ अनंतनाग के लोगों को जोड़कर परिसीमन के बाद बनाई गई सीट अन्याय और क्रूरता है। लोग इसे पहले ही महसूस कर चुके हैं। वे इससे नाखुश हैं। यह सिर्फ एक बहाना है।

कई पार्टियों ने की थी प्रतिकूल परिस्थितियों के चलते चुनाव स्थगन की मांग

पुनर्निर्धारित अनंतनाग-राजौरी लोकसभा सीट पर 7 मई को होने वाले चुनाव को चुनाव आयोग ने 25 मई तक के लिए स्थगित कर दिया है। जम्मू-कश्मीर भाजपा इकाई के प्रमुख रविंदर रैना, जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी के प्रमुख अल्ताफ बुखारी, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के नेता इमरान अंसारी और अन्य सहित कई नेताओं ने चुनाव आयोग से संपर्क कर प्रतिकूल परिस्थितियों के कारण इस सीट पर चुनाव फिर से कराने का अनुरोध किया था।

ये भी पढ़ें: Anantnag Rajouri Seat: पॉक्सो समेत 20 मामलों में आरोपी निर्दलीय उम्मीदवार ने भरा नामांकन, महबूबा मुफ्ती के खिलाफ लड़ेगा चुनाव

मौसम की रिपोर्ट के बाद 25 मई को होंगे चुनाव

चुनाव आयोग ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन से क्षेत्र में सड़क की स्थिति, मौसम और पहुंच पर एक विस्तृत रिपोर्ट तुरंत जमा करने को कहा था, जिसमें दक्षिण कश्मीर के कुछ हिस्से और जम्मू क्षेत्र में पुंछ और राजौरी के क्षेत्र शामिल हैं। इसके बाद आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया है कि मतदान 25 मई को होंगे।

अनंतनाग राजौरी में 21 उम्मीदवार आजमाएंगे अपनी किस्मत

पूर्व मुख्यमंत्रियों उमर अब्दुल्ला (नेशनल कॉन्फ्रेंस) और महबूबा मुफ्ती (पीडीपी) ने पिछले हफ्ते चुनाव आयोग से चुनाव स्थगित नहीं करने का आग्रह किया था। इस निर्वाचन क्षेत्र में 21 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करने के लिए 7 मई को तीसरे चरण में मतदान होना था, जिसमें महबूबा मुफ्ती भी शामिल थीं, जिन्हें एनसी के मियां अल्ताफ से चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। अब लोकसभा चुनाव के छठे चरण में मतदान होगा।

ये भी पढ़ें: Jammu Kashmir News: VDG की हत्या में शामिल आतंकवादी समूहों का पता लगाने के लिए सेना ने कठुआ तक बढ़ाया सर्च अभियान


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.