संवाद सहयोगी, महानपुर : कस्बे का तहसीलदार का पद करीब आठ महीनों के बाद भरा भी गया परन्तु नए तहसीलदार की नियुक्ति होते ही उसे बसोहली तहसील कार्यालय में अटैच कर दिया जिससे तहसील महानपुर के लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। काफ ी दूरी तय कर लोग तहसील कार्यालय में अपने तहसील संबंधी जरूरी काम करवाने के लिए आते हैं परन्तु तहसीलदार की कुर्सी खाली देखकर उन्हें काफी निराशा होती है। इसके चलते क्षेत्र के लोगों ने सरकार से तहसीलदार के स्थायी रूप से बैठने की माग की है। दरअसल अक्टूबर महीने में मौजूदा तहसीलदार हेम राज सेवा निवृत्त हुए थे जिसके बाद से तहसीलदार का पद रिक्त पड़ा था हालाकि, तत्कालीन तहसीलदार बसोहली जय सिंह ने इस तहसील का इंचार्ज पदभार संभाला भी परन्तु न ही उनके बैठने की तिथी मुकर्र होती थी और न किसी अन्य के पास कोई पावर जिससे लोगों के काम में अड़चन न आती जिसके चलते लोगों को छोटे से काम के लिए पहले महानपुर फि र बसोहली जाना पड़ता था छोटे से भी छोटा प्रमाण पत्र बनाने में काफी परेशानी आती थी। लोगों की इस समस्या को दूर करने के लिए सरकार ने मई यानी करीब एक महीने पूर्व महानपुर तहसीलदार का पद भरते हुए नए तहसीलदार जितेद्र सिंह की नियुक्ति की परन्तु एक महीने के बीतर कुछ ही दिन महानपुर में बिताए और आज भी वही स्थिति है कि महानपुर कार्यालय में बैठने के लिए कोई भी दिन मुकर्र नहीं हुआ और लोगों की समस्या आज भी बरकरार है। महानपुर तहसील में एक अन्य नयाब धारमहानपुर में है इसके अलावा पूरी तहसील की 19 पंचायतों में तीस हजार के करीब आबादी है परन्तु तहसीलदार के अटैचमैंट होने पर तहसील के लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। वहीं एडीसी बसोहली संजय गुप्ता ने बताया कि बसोहली तहसील कार्यालय में भी इस समय तहसीलदार का पद रिक्त है जिसके चलते इन दोनों तहसीलों के काम काज इसी एक मात्र तहसीलदार पर निर्भर है। इस कारण सप्ताह के कुछ दिन बसोहली तथा कुछ दिन महानपुर बैठना पड़ रहा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप