जागरण संवाददाता, कठुआ : शहर के वार्ड एक स्थित जवाहर नगर में विगत 2 माह से हो रही दूषित पेयजल आपूर्ति को लेकर स्थानीय वार्ड की महिलाओं का एक प्रतिनिधिमंडल मंगलवार विभाग के जिला कार्यालय में पहुंचा। महिलाओं ने हाथों में वार्ड में हो रही दूषित पेयजल आपूर्ति का सेंपल बोतल में लिया था

ताकि मौके पर अधिकारियों को बताया जाए लेकिन वहा पर विभाग के कार्यकारी अभियंता से लेकर सहायक कार्यकारी अभियंता और जूनियर अभियंता तक के अधिकारी कार्यालय में मौजूद न देखकर महिलाओं का गुस्सा और बढ़ गया। उनके वार्ड में किस तरह से विभाग दूषित आपूर्ति कर बीमारियों को फैलने का मौका दे रहा है और तो और अधिकारी समस्या का समाधान कराने की बजाय कार्यालय में भी नहीं मिलते हैं। इससे बड़ी लापरवाही और क्या हो सकती है। यहीं कारण है कि उनके क्षेत्र में दूषित पानी की आपूर्ति होने पर उसका समाधान नहीं हो पा रहा है। महिलाओं ने बताया वार्ड में विगत दो माह से इस तरह के दूषित पेयजल की आपूर्ति हो रही है। कई बार विभाग के अधिकारियों के ध्यान में लाया गया लेकिन कोई समाधान नहीं किया गया। प्रतिनिधि मंडल में शामिल अर्चना कुमारी, प्रेमलता आशा रानी, अमृत सैनी आदि ने बताया कि उनके वार्ड में एक मुख्य सीवरेज नाला है। इसके बीच से होकर पेयजल आपूर्ति की पाइप गुजरती है। बीच में कहीं से लीक होने से उसमें दूषित पानी जाकर उनके घरों में आपूर्ति हो रहा है। इससे कई लोग बीमार हो चुके हैं। विभाग के अधिकारी व्याप्त समस्या के समाधान के लिए गंभीर नहीं हैं। ऐसे में पूरे वार्ड में दूषित पेयजल से महामारी फैलने की आशका बनी है हालाकि महिलाएं आपने समस्याएं अधिकारियों को बताना चाहती थीं लेकिन मौके पर कोई अधिकारी नहीं होने से लौट आईं। उन्होंने फिर अपनी समस्या अधिकारियों के समक्ष रखने की बात कही है।

Posted By: Jagran