संवाद सहयोगी, कठुआ : अपनी लंबित मांगों को लेकर काम छोड़ हड़ताल पर बैठे पीएचई विभाग के डेलीवेजरों की हड़ताल पांचवे दिन भी जारी रही। इस दौरान दर्जनों डेलीवेजरों ने एक्सईएन कार्यालय में धरना देकर कर अपनी लंबित मांगों लेकर जोरदार नारेबाजी।

प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे यूनियन के शिव नारायण सिंह ने कहा कि वर्षो से विभाग में सेवा दे रहे डेलीवेजरों के हकों को हर बार दबाया गया है। लेकिन अब वह अपना हक लेने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार है। अब जब तक उनकी मांग को मान कर सभी डेलीवेजरों के खातों में उनका बकाया वेतन सरकार जमा नहीं कर देती है। उनका यह संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि बुधवार को जिला भर से आए डेलीवेजर राज्य के प्रवेशद्वार लखनपुर से कठुआ एक्सईएन कार्यालय तक रोष मार्च निकालेंगे। अगर इसके बावजूद सरकार ने मांग को पूरा नहीं किया तो उनका संघर्ष और तेज होगा। हड़ताल से शहर में पेयजल आपूर्ति नियमित नहीं हो रही है। शहर में अब स्थानीय निवासियों को तीसरे दिन पेयजल आपूर्ति हो रही है। इससे काम चल रहा है। हालांकि, कई क्षेत्रों में जहां स्थायी कर्मचारी ज्यादा लगे हैं, वहां नियमित भी हो रही है। -----

बॉक्स

एसआरओ 520 को बताया धोखा

रामकोट के नगरोटा गुज्जरू स्थित सेक्शन हेड क्वार्टर में भी विभाग के डेलीवेजरों महेंद्र सिंह मनकोटिया के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। मनकोटिया ने कहा कि 1994 के बाद पीएचई विभाग में लगे सीपी वर्करों को आज तक पक्का नहीं किया गया है। मात्र 4500/- मासिक वेतन पर काम करने वाले इन कर्मचारियों को विभाग द्वारा कभी नियमित वेतन नहीं दिया गया। मौजूदा समय में इनका 50 माह का वेतन अभी भी बकाया है। इस बार त्यौहारों पर भी उनको वेतन नहीं दिया गया। इस कारण ये कर्मचारी दाने दाने के लिए मोहताज हो रहे हैं। उन्होंने एसआरओ 520 को भी एक धोखा बताया।

उन्होंने गवर्नर से कर्मचारियों की मांग पर जल्द गौर करने की मांग करते हुए चेतावनी दी कि अगर ऐसा न हुआ तो वह अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। प्रदर्शन में मोहन सिंह, उत्तम चंद, सुभाष चंद,्र रामसिंह, पुरुषोत्तम कुमार, कालूराम, मुकेश सिंह, बलवीर सिंह, रोशन कुमार, रघुवीर सिंह, रघुनंदन सिंह, रविंद्र सिंह, बलवीर सिंह, कुलभूषण कुमार, कमल किशोर आदि ने भाग लिया।

Posted By: Jagran