संवाद सहयोगी, बिलावर: पतंजलि योग समिति के आचार्य बालकृष्ण जी के जन्मदिवस को पतंजलि योग समिति के कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को जड़ी-बूटी दिवस के रूप में मनाया गया। इस दौरान लोगों के घर-घर जाकर औषधीय पौधे पतंजलि के कार्यकर्ताओं ने भेंट किए।

पतंजलि योग समिति के जिला प्रभारी अंग्रेज सिंह ने प्रात: लोगों को योग के विभिन्न आसनों को करवाया गया, जिसमें भ्रामरी, कपाल भारती, अलोम विलोम आदि योग मुद्राएं लोगों को करवाई। लोगों को निरोग रहने का मंत्र देते हुए पतंजलि योग समिति के बिलावर जिला प्रभारी अंग्रेज सिंह ने कहा कि भारत ने आयुर्वेद का ज्ञान दुनिया को दिया है। यहा आयुर्वेद के उपचार की इनमें कई जड़ी बूटियों का प्रयोग होता है। उन्होंने कहा औषधिया पौधे बड़े गुणकारी होते हैं, इसीलिए हर कोई इनका ध्यान रखें और घरेलू उपचारों के लिए देसी जड़ी बूटियों का इस्तेमाल करें। जिनका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता। उन्होंने कहा कि घर के गमलों में ही एलोवेरा, तुलसी, गिलोय आदि के पौधे लगाएं। उनके सेवन से कभी बीमारी आपको छू नहीं सकती, इसीलिए निरोग रहने के लिए योग के साथ-साथ आयुर्वेद भी लाभकारी है। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद भारतीय उपचार पद्धति है, इसे हम लोग भूल रहे हैं। लेकिन बाबा रामदेव और उनके सहयोगी आचार्य बालकृष्ण ने हम लोगों को पतंजलि योग संस्थान के माध्यम से इसके साथ जोड़ा है। इसका हमें लाभ लेना चाहिए।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस