जागरण संवाददाता, कठुआ : जिले की एकमात्र सबसे बड़ी नगर इकाई कठुआ नगर परिषद को विकास के लिए सरकार से डेढ़ साल से फंड मिलने का इंतजार है। जिला मुख्यालय पर नगर परिषद के अधीन 21 वार्डो में करीब 15 किलोमीटर क्षेत्रफल के विकास के लिए जो फंड मिलने चाहिए थे, नहीं मिले। जो फंड मिले हैं, वह रूटीन खर्च के ही हैं। आलम ये है कि 15वें वित्त आयोग के फंड अभी तक नहीं मिल पाए हैं, जिसका इंतजार किया जा रहा है। फंड की कमी के कारण शहर का उचित विकास नहीं हो पा रहा है। यहां तक कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत भी अभी तक मात्र 4 करोड़ रुपये ही मिल पाए हैं। हालांकि नगर परिषद ने अपने संसाधनों से करोड़ों रुपये के विकास कार्य शुरू करा रखे हैं या फिर रूटीन के फंड मिलने की आस में शुरू कराए हैं। चालू वित्तीय वर्ष बीतने में अब सवा महीना ही रह गया है। ऐसे में समय पर यह विकास कार्य पूरे हो जाएंगे, इसकी उम्मीद कम ही है। ऐसे में पर्याप्त फंड के अभाव में नगर परिषद शहर का समुचित विकास कराने में असमर्थ है। नगर परिषद के प्रधान नरेश शर्मा का कहना है कि जितने फंड रूटीन के मिलने हैं या मिल चुके हैं, उनसे शहर के 21 वार्डो में से एक वार्ड में भी एक-एक गली का ही निर्माण करना मुश्किल है। जबकि नगर परिषद के गठन के बाद विशेष फंड जारी होने की उम्मीद थी, जो नहीं मिल पाए हैं। शहर के कई वार्ड ऐसे हैं, जहां पर विकास के लिए एक गली नहीं, बल्कि कई गलियों एवं नालियों के अभी निर्माण होने हैं।

------------------------

कोट्स

विकास के लिए जितने फंड मिले हैं, उनसे शहर का समुचित विकास होना संभव नहीं है। हालांकि उसके बाद भी नगर परिषद ने अपने पास उपलब्ध संसाधनों का इस्तेमाल करके करोड़ों के विकास कराए हैं और शुरू भी किए हैं। इसमें कई गलियों एवं नालियों के निर्माण शामिल हैं, लेकिन इन्हीं फंड से शहर का समुचित विकास होना संभव नहीं है। शहर का क्षेत्र अब 15 किलोमीटर के दायरे में फैल चुका है। 21 वार्ड हैं। वहां की साफ-सफाई, वाहनों का रखरखाव आदि भी करना होता है।

नरेश शर्मा, प्रधान, नगर परिषद, कठुआ डेढ़ साल में यह मिले फंड

-14वें वित्त आयोग से कई साल से लंबित तीन किस्त के 3.10 करोड़

-माई टाउन माई प्राइड-एक करोड़

-आइडीएमटी (इंटीग्रेटेड डेवलपमेंट मीडियम टाउन)- 30 लाख

-जिला विकास फंड -20 लाख अभी मिलने हैं।

------------------------

अपने संसाधनों से कराए काम

मुखर्जी चौक में शापिग कांप्लेक्स का निर्माण-4.17 करोड़

मुखर्जी चौक में ही शापिग कांप्लेक्स का निर्माण-74 लाख

नगरी अड्डा में शापिग कांप्लेक्स का निर्माण -22 लाख

न्यू बस स्टैंड में शापिंग कांप्लेक्स का निर्माण -70 लाख

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप