जागरण संवाददाता, कठुआ: रावी दरिया में खनन पर जारी प्रतिबंध को पूरी तरह से प्रभावी बनाने के लिए उच्चाधिकारियों ने बुधवार को दौरा किया। हालांकि, कुछ दिनों से रावी में जारी प्रतिबंध के बावजूद कुछ स्टोन क्रशरों द्वारा रात के समय खनन करने की सूचनाओं पर अमल करते हुए जम्मू से खनन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर निसार अहमद ने जिला खनन अधिकारी राजेंद्र सिंह बंदराल के साथ रावी दरिया का औचक दौरा किया।

औचक दौरे के दौरान डिप्टी डायरेक्टर ने रावी दरिया स्थित किड़ियां गंडयाल क्षेत्र का भी दौरा किया, जहां पर सबसे ज्यादा स्टोन क्रशर लगे हैं,जो खनन पर जारी प्रतिबंध के चलते विभाग ने करीब दो माह से 35 क्रशर बंद करवा रखे हैं। वाबजूद विभाग को बीच-बीच में रात के समय कुछ क्रशर मालिक चोरी से चलाने का प्रयास करते हैं। जिसके चलते विभाग के लिए प्रतिबंध को पूरी तरह से प्रभावी बनाने के लिए औचक दौरे भी करने पड़ रहे हैं। इसी के चलते बुधवार को डिप्टी डायरेक्टर ने रावी दरिया के किड़ियां गंडयाल का दौरा किया। दौरे के दौरान कोई भी क्रशर मौके पर चलता नहीं पाया गया, हालांकि इससे पूर्व औचक दौरे के दौरान जितने भी क्रशर चलते पाये गए, सभी सीज किए गए हैं। इस कार्रवाई के बीच कुछ क्रशर मालिकों ने खुद ही अपने क्रशर बंद कर दिए है। इस बीच कुछ क्रशर चलने की सूचनाओं के बाद प्रतिबंध को पूरी तरह से प्रभावी बनाने के लिए अधिकारी सूचना के बाद आए दिन रावी का दौरा कर रहे हैं। ककोट्स---बाक्स--

रावी दरिया में जारी खनन पर प्रतिबंध को पूरी तरह से प्रभावी बनाए हुए हैं। कुछ दिनों से कुछ क्रशर मालिक द्वारा चोरी से क्रशर चलाने की सूचनाएं आ रही थीं, उसी को देखते हुए बुधवार को जायजा लेने के लिए पहुंचे, लेकिन ऐसा वहां कुछ नहीं दिखा, कोई भी क्रशर चलता हुआ नहीं दिखा। इस समय 52 क्रशर बंद हैं जो रावी सहित अन्य प्रतिबंधित दरियाओं से खनन नहीं कर सकते हैं। उच्च अधिकारियों से आदेश मिलने के बाद ही अगली कार्रवाई होगी। हालांकि उज्ज दरिया के एक हिस्से में पर्यावरण क्लीयरेंस हैं, वहां से खनन कर सकते हैं। अगर कोई क्रशर उज्ज दरिया के बाहर क्षेत्र में लगा है तो वो वहां से मीटिरियल लाकर खनन कर सकता है,लेकिन रावी दरिया से नहीं।

- राजेंद्र सिंह बंदराल, जिला खनन अधिकारी, कठुआ।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस