राकेश शर्मा, कठुआ: बिलावर पुलिस स्टेशन ने अपनी बेहतर कार्यपणाली से जिला पुलिस को गौरवान्वित किया है। इससे जम्मू कश्मीर पुलिस की देश भर में सम्मान बढ़ा है।

गत वर्ष गृह मंत्रालय की ओर से देशभर के थानों की बेहतर कार्यप्रणाली जानने के लिए एक सर्वे कराया गया था, जिसमें बिलावर पुलिस को बेस्ट पुलिस स्टेशन यानि सर्वश्रेष्ठ पुलिस स्टेशन के श्रेणी में चुना गया। सर्वे में राष्ट्रीय स्तर पर 15वें रैंक और जम्मू कश्मीर में पहले स्थान पर रहा। गृह मंत्रालय द्वारा सर्वे प्रक्रिया पूरी होने के बाद थाना को उत्कृष्ट कार्यप्रणाली का पत्र भेजा गया। इसके उपलक्ष्य में जिला पुलिस प्रमुख आर सी कोतवाल ने अवार्ड के रूप में मिले प्रशस्ति पत्र को बिलावर थाना प्रभारी ओपी चिब को सौंपने के लिए सोमवार को पुलिस लाइन में एक समारोह आयोजित किया। इसमें बिलावर के एसडीपीओ अरविद कुमार को भी विशेष रूप से आमंत्रित किया गया। इसके अलावा जिले के अन्य पुलिस थाना प्रभारी व अधिकारी भी मौजूद रहे, जहां सभी की उपस्थिति में अवार्ड रूप में मिले उत्कृष्ट पत्र को जिला पुलिस प्रमुख आर कोतवाल ने सौंपते हुए कहा कि यह जिला पुलिस ही नहीं, ब्लकि जम्मू कश्मीर पुलिस के लिए गर्व की क्षण है कि उनके कुल 9 थानों में से एक थाना राष्ट्रीय स्तर पर अपने बेहतर कार्याें से 15वें स्थान पर आंका गया।

सबसे बड़ी बात यह है कि जम्मू कश्मीर में मात्र बिलावर थाना इस तरह के अवार्ड की श्रेणी में चुना गया। कोट्स---

इस अवार्ड से जिला पुलिस गौरवान्वित हुई है। जिला पुलिस के लिए गर्व की बात है कि उनका एक मात्र पुलिस स्टेशन पूरे प्रदेश से राष्ट्रीय स्तर पर बेस्ट पुलिस स्टेशन के लिए चुना गया है। इससे पुलिस का हौसला बढ़ा है और अन्य पुलिस स्टेशन में काम करने वालों को भी इससे प्रेरणा मिलेगी। वे भी भविष्य में इस अवार्ड का पाने के लिए पूरी निष्ठा एवं समर्पण भावना से काम करेंगे। हालांकि, अवार्ड की घोषणा गत वर्ष हुई थी, लेकिन अब औपचारिक रूप से गृह मंत्रालय द्वारा प्रशस्ति पत्र भेजने पर उसे सौंपने के लिए कार्यक्रम किया गया।

-आर सी कोतवाल, जिला पुलिस प्रमुख, कठुआ। बाक्स----

कई पैरामीटर पूरा करने के बाद मिलता है अवार्ड

गृह मंत्रालय द्वारा एक एजेंसी से कराए गए सर्वे में देश भर के किसी भी पुलिस स्टेशन को बेस्ट अवार्ड देने के लिए कई पैरामीटरों बनाया गया है। इसमें ओवरआल प्रदर्शन देख जाता है। इसमें सिर्फ क्राइम इंडेक्स ही नहीं, ब्लकि थाने की स्वच्छता, मादक पदार्थाें की तस्करी की पर नकेल कसने, मामलों की तेजी से जांच पड़ताल पूरी करने, शौचालय, बैरक, वहां शिकायत दर्ज कराने के लिए आने वालों के साथ व्यवहार सहित कई मापदंड देखे जाते हैं। इस श्रेणी का अवार्ड पाने के लिए यह नहीं देखा जाता है कि कोई अधिकारी बड़े शहर में या हाईवे पर यातायात व्यवस्था को भी संभाल रहा है, इसमें यह नहीं, बल्कि ओवरआल प्रदर्शन देखा जाता है। सबसे अहम बिलावर पुलिस स्टेशन जिला की आबादी के हिसाब से कठुआ पुलिस स्टेशन के बाद दूसरे नंबर पर आता है, जहां की आबादी 1.20 लाख है, जबकि कठुआ की 2 लाख है। इसके साथ ही बिलावर की भौगालिक स्थिति इस तरह से है कि वहां पहाड़ों पर अलग-अलग घर हैं, जहां पर अगर किसी पुलिस कर्मी को क्राइम या अन्य तरह की जांच करने जाना हो तो आने जाने में भी समय लगता है, यह सबसे बड़ा पैरामीटर भी देखा गया।

Edited By: Jagran