संवाद सहयोगी, बसोहली : बसोहली को पर्यटन मानचित्र पर अलग पहचान दिलाने वाले अटल सेतु पर आने वाले चंद दिनों में स्ट्रीट लाइट जलती दिखेगी। ग्रेफ विभाग द्वारा बिजली मैकेनिक टीम को बसोहली अटल सेतु पर विशेष तौर पर स्ट्रीट लाइट ठीक करने के लिए भेजा गया। अगर स्ट्रीट लाइट ठीक हो जाती है तो देर शाम को भी इस पर पर्यटक पैदल आ जा सकते हैं।

2015 में केबल स्टेयड अटल सेतु को यातायात के लिये 25 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की याद में समíपत किया गया। तब से लेकर आज तक स्ट्रीट लाइट जली ही नहीं। इस कारण शाम होते ही अटल सेतु पर केवल पिलर की लाइट ही जलती थी, जबकि अटल सेतु पर अंधेरा ही छाया रहता था। इस कारण अंधेरे में लोग इस पर चलने से परहेज करते थे। खासकर महिला पर्यटक तो जाती ही नहीं थी। अब अगर सब कुछ ठीक रहा और सेतु की लाइट ठीक हुई तो आने वाले दिनों में अटल सेतु पर रौनक देखने को मिल सकती है। ग्रेफ विभाग की टीम दिन भर लाइटों को चैक करने और उन्हें चालू करने के लिये अपनी ओर से कार्रवाई करने में लगी रही। टीम के अनुसार हो सकता है एक दो दिन में सारी लाइटें जल जायें।

ज्ञात रहे कि अटल सेतु भारत का चौथा केबल स्टेयड ब्रिज है, इसकी लाइटों के न जलने से स्थानीय लोग तो परेशान होते ही थे, पर्यटक भी रात को आने से परहेज करते थे। दैनिक जागरण ने भी कई बार मुद्दा उठाया। करीब 145 करोड़ रुपये की लागत से तैयार अटल सेतु पर स्ट्रीट लाइट की कमी को लेकर समाचार प्रकाशित किया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप