संवाद सहयोगी, बसोहली : उपजिले में सरकारी भूमि पर कब्जा करने वालों की अब खैर नहीं है। सरकारी भूमि पर किए गए कब्जा को मुक्त करवाया जा रहा है। इसी कड़ी में वीरवार को नायब तहसीलदार मोहम्मद इस्माइल के नेतृत्व में गांव रैहण में तीस कनाल भूमि को अतिक्रमणकारियों के कब्जे से मुक्त करवाया। हालाकि, कब्जा हटाने गई टीम को लोगों के रोष का भी सामना करना पड़ा।

नायब तहसीलदार मोहम्मद इस्माइल की अगुवाई में राजस्व विभाग के कर्मचारियों के अलावा पुलिसकर्मी भी शामिल थे। उक्त जमीन पर अब पर्यटन विभाग की ओर से कैफेटेरिया बनाया जाएगा, जिसे स्थानीय लोग बनाने नहीं दे रहे थे। मौके पर डयूटी मजिस्ट्रेट ने पुलिस को शासकीय कार्य में बाधा डालने वाले व्यक्तियों पर कार्रवाई करने के निर्देश देते हुए पुलिस को अवैध अतिक्रमण करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए। इसके बाद थानादार सिकंदर सिंह चौहान की देखरेख में पर्यटन विभाग के कैफटेरिया बनाने के लिये कार्य भी शुरू करवाया।

इससे पहले राजस्व विभाग की टीम ने अतिक्रमण की जगह को खाली करवाया और वहा पर पर्यटन विभाग की जमीन का बोर्ड स्थापित किया। बाद में तहसीलदार अमन आनंद भी अतिक्रमण हटाने के बाद के कामकाज का जायजा लिया। इसके साथ ही वहा पर बोर्ड लगाकर पर्यटन विभाग को कैफटेरिया बनाने के काम को जारी रखने के निर्देश दिए।

ज्ञात रहे कि बसोहली कस्बे में कई जगहों पर भू माफिया की ओर से सरकारी जमीन पर कब्जा किया गया है। कई गाव इसकी चपेट में हैं। अब जहां भी प्रशासन को भूमि की जरूरत पड़ रही है, वहां अतिक्रमण मुक्त करवाया जा रहा है। इसकी शुरुआत जेके स्पोटर्स कौंसिल के वाटर स्पोटर्स अकादमी के साथ हुई, वहां पर सात कनाल के करीब भूमि को कब्जा मुक्त करवाया गया। इसके बाद कई अन्य जगहों पर भी ऐसी कार्रवाई प्रशासन द्वारा समय समय पर की जा रही है।

Edited By: Jagran