संवाद सहयोगी हीरानगर : जम्मू में मंगलवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री गुलाब नबी आजाद के खिलाफ हुए प्रदर्शन के बाद आजाद समर्थक बुधवार को सड़कों उतर आए।

पूर्व एमएलसी सुभाष गुप्ता के नेतृत्व काग्रेस कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित हीरानगर मोड गुलाम नबी आजाद के समर्थन में प्रदर्शन किया और पार्टी हाईकमान से शाहनवाज चौधरी के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। इस मौके पर पूर्व एमएलसी सुभाष गुप्ता ने कहा कि गुलाम नबी आजाद काग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं। उन्होंने पार्टी की मजबूती में अहम भूमिका निभाई है। कोई भी काग्रेसी उन का विरोध नहीं कर सकता। शाहनवाज जिसने पार्टी के उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ा है, हम उसे काग्रेसी नहीं मानते। हाईकमान को उस के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि 26 फरवरी को गुलाम नबी आजाद जब जम्मू आए थे तो सभी लोगों ने उन का स्वागत किया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी संसद में उनकी प्रशसा की थी। अगर उन्होंने प्रधानमंत्री की प्रसंशा की है तो कौन सा पहाड़ टूट पड़ा है। 1971में जब तत्काल प्रधानमंत्री इंदिरा गाधी ने पाकिस्तान से जंग जीती थी तो उस समय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने भी उनकी प्रसंशा करते हुए उन्हें दुर्गा का अवतार कहा था। गुप्ता ने कहा कि गुलाम नबी आजाद के विना जम्मू कश्मीर में काग्रेस मजबूत नहीं हो सकती। जनता उन्हें पसंद करती हैं और उन्हें जम्मू कश्मीर की जिम्मेदारी सौंपी जानी चाहिए। वहीं अराधना अंडोतरा, जुगल किशोर, बाली रमेश कुंडल ने भी ग़ुलाम नबी आजाद के खिलाफ मंगलवार को शाहनवाज चौधरी के प्रदर्शन की निंदा की है। उन्होंने कहा कि काग्रेस कार्यकर्ता उनके साथ हैं। इस मौके पर नरेंद्र सिंह, लक्की, अनंत राम डोगरा, भूषण सागडा, बलकार चंद, महेंद्र शर्मा, रूलदू राम, गुलाम दीन, सुरेंद्र सिंह, हरबंस सैनी, नरेंद्र सिंह सहित अन्य पार्टी कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021