जागरण संवाददाता,कठुआ : मुख्य शिक्षा अधिकारी कठुआ प्रकाश लाल थप्पा कहा कि एक जीवंत समाज बनाने के लिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक सदस्य का अच्छी तरह से ध्यान रखा जाए। बच्चे तो समाज के गहने हैं। वे भविष्य के लिए एक स्प्रिंग बोर्ड हैं। उन्होंने आग्रह किया कि लोग विशेष रूप से दिव्यांग बच्चों पर ध्यान दें, ताकि वे समाज में योगदान दे सकें।

मुख्य शिक्षा अधिकारी शुक्रवार को विश्व दिव्यांग दिवस पर जिला शिक्षा विभाग के रिसोर्स सेंटर में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

रिसोर्स सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य शिक्षा अधिकारी प्रकाश लाल थप्पा मुख्य अतिथि, जबकि उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी चमन लाल विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे। इस मौके पर दिव्यांग शिक्षिका रूबी शर्मा, मनबीर उपस्थित थे। कार्यक्रम में डीआरजी पवन विवेक ने औपचारिक रूप से उपस्थिति का स्वागत करते हुए विकलांग लोगों के सामने आने वाली कुछ चुनौतियों पर प्रकाश डाला। वहीं लड़कों के सरकारी हायर सेकेंडरी स्कूल के प्रधानाचार्य संजीव वैध ने दिव्यांगों के सामने आने वाली कुछ चुनौतियों और वो इससे कैसे निपटते हैं, इसके बारे में चर्चा की और केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाने के लिए दिव्यांगों से अपने विकलांग प्रमाण पत्र के लिए समय पर आवेदन करने का भी आग्रह किया। वरिष्ठ शिक्षिका रूबिक और मनबीर सिंह ने विश्व दिव्यांग दिवस के बारे में लोगों को बताया। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि हमेशा सकारात्मक ²ष्टिकोण रखना चाहिए और यह जानना चाहिए कि सुरंग के अंत में प्रकाश है। डिप्टी सीईओ चमन लाल एचओडी डाइट बसोहली, डीआईसीसी मोनिका खोसला, तकनीकी विशेषज्ञ दीपक कुमार भी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran