संवाद सहयोगी, हीरानगर : केंद्र सरकार की गलत नीतियों के साथ-साथ डीजल पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के विरोध में काग्रेस कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित दयाला चक में एक पैट्रोल पंप पर प्रदर्शन किया। पूर्व एमएलसी सुभाष गुप्ता के नेतृत्व में काग्रेस कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन कर कीमतों में कमी करने की माग की।

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए सुभाष गुप्ता ने कहा कि डीजल पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के कारण सभी वस्तुएं महंगी होने से हाहाकार मचा हुआ है। लोग पहले ही कोरोना की वजह से परेशान थे। उपर से महंगाई की वजह से उनकी मुश्किलें बढ़ गई हैं। काग्रेस के कार्य काल में पेट्रोल 45 रुपये लीटर मिलता था और कच्चा तेल मंहगा था। अब कच्चा तेल सस्ता है और पैट्रोल डीजल 100 रुपये को पार कर गया है। उन्होंने कहा कि आम जनता ने भाजपा को इस उम्मीद से वोट दिए थे कि वह चुनाव में किए वायदे पूरे करेगी। लेकिन एक भी वायदा पूरा नहीं हुआ। न महंगाई कम हुई और न ही युवाओं को रोजगार मिला। उन्होंने कहा भाजपा ने सीमा पर शाति लाने, सीमावर्ती लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पर पाच-पाच मरले प्लाट देने का वादा किया था, यह भी पूरा नहीं हुआ। उन्होंने कहा जम्मू-कश्मीर में 370, 35ए हटाने के बाद हालात बद से बदतर हो गए हैं। महंगाई, भ्रष्टाचार और बेरोजगारी बढी है। आम जनता केंद्र सरकार की गलत नीतियों से अब तंग आ चुकी है और लोग बदलाव चाहते हैं।

सुभाष गुप्ता ने कहा कि काग्रेस महंगाई के विरोध में पूरे देश में विरोध प्रदर्शन कर रही है। आगे भी लोगों के हक के लिए आवाज उठाते रहेंगे।

वहीं, सरपंच विनय शर्मा, रमेश कुंडल ने कहा कि डीजल पेट्रोल की कीमतों में हुई बढ़ोतरी से किसानों पर भी असर पड़ा है। एक तो अनाज की उचित कीमत नहीं मिलने से वह परेशान हैं। वहीं, केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए तीन कृषि कानून वापस लेने की माग को लेकर वह आठ माह से धरने प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार उन की सुध नहीं ले रही। अगर सरकार ने अपनी नीतियों में सुधार नहीं किया तो आम जनता इसके विरोध में सड़कों पर उतर आएगी। प्रदर्शनकारियों में राजीव गुप्ता, जुगल किशोर बाली, हरभजन सैनी, रूलदू राम, सतपाल, मुरारी लाल आदि भी मौजूद थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप