संवाद सहयोगी, बसोहली: बर्फबारी से बंद बनी-बसोहली मार्ग को यातायात के लिए खोल दिया गया। इससे लोगों को काफी राहत मिली है। हालांकि कई क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति अभी भी ठप है।

पिछले चार दिन से लगातार जारी बारिश सोमवार को भी बरकरार रही। हालांकि सोमवार को हल्की बूंदाबांदी ही हुई, लेकिन शीत लहर से हर कोई परेशान रहा। शुक्रवार दोपहर 2 बजे के बाद लाकडाउन लगने से पसरा सन्नाटा टूटा और बाजार व बस अड्डे पर रौनक लौटी। लोग जरूरी सामान खरीदने के लिए बसोहली में आए। बारिश के कारण दूसरे दिन भी सियालग गांव में बस नहीं जा पाई। रविवार को बंद हुई बसोहली-बनी सड़क चार बजे के करीब यातायात के लिए ग्रेफ विभाग द्वारा मशीनों का इस्तेमाल कर खोल दी गई। इससे बसोहली-बनी सड़क पर यातायात बहाल हो पाया। जगह-जगह बर्फ के कारण सड़क पर अभी भी फिसलन बनी हुई है। ज्ञात रहे कि बसोहली-बनी सड़क बनी तहसील के दूरदराज के क्षेत्रों के लाइफ लाइन का काम करती है। इसी सड़क से राशन, सब्जियां, फल आदि बनी तक पहुंचते हैं, जहां से बनी तहसील के गांवों में इनको भेजा जाता है। बारिश के कारण बसोहली का तापमान 6 डिग्री के पास पहुंच गया, जिससे क्षेत्र कड़ाके की ठंड और शीत लहर की चपेट में है। बारिश के कारण कई जगहों की बिजली आपूर्ति बाधित रही, जिसे सोमवार को बारिश के रुकने पर बहाल करने के लिए काम करना शुरू किया गया। बसोहली-बनी सड़क पर सियारा गांव, जंदरैली सियालग सड़क पर भीकड़ गांव में भी बर्फ गिरी हुई है, जिसे निहारने के लिए भूंड आदि दर्जनों गांवों से लोगों का जमावड़ा दिनभर लगा रहा।

Edited By: Jagran