जागरण संवाददाता, लेह: लद्दाख की जनता ने अपना प्रतिनिधि चुनने के लिए जमकर मतदान किया। मतदान को लेकर उनमें कितना उत्साह था, इसका अंदाजा इससे भी हो जाता है कि मतदान केंद्रों के बाद बनाए गए सेल्फी स्टैंड पर इन मतदाताओं ने उंगली पर लगी स्याही दिखाते हुए सेल्फी व फोटोग्राफ भी लिए। लद्दाख के मतदाताओं ने अपनी पहचान और क्षेत्र के विकास के नाम पर वोट किया। खासतौर पर युवा अपनी शिक्षा और क्षेत्र की तकदीर बदलने के नाम पर वोट करने आए। कतार में लगी महिलाएं और बुजुर्ग भी क्षेत्र की किस्मत बदलने के लिए वोट डालने पहुंचे। मतदाताओं के रुख से साफ है कि अब वह विकास और बेहतर सुविधाओं के लिए और अधिक इंतजार नहीं करेंगे।

मतदान केंद्रों पर पहुंचने वाले बुजुगरें ने भी नई पीढ़ी के लिए बेहतर सुविधाएं और बेहतर माहौल की माग की। पहली बार वोट डालने वाले युवाओं ने शिक्षा, स्वास्थ्य के साथ अन्य मूलभूत सुविधाओं का समान अधिकार मागा। लेह की व्योवृद्ध 93 वर्षीय महिला सोनम डेसगेट ने अपना वोट लद्दाख के विकास और गरीबी के हालात बदलने के लिए डाला। उन्होंने कहा कि आज भी हमारा क्षेत्र बेहतर सुविधाओं के लिहाज से पिछड़ा हुआ है। इसके विकास के लिए बेहतर सरकार, अच्छे नेता का सत्ता में होना बहुत जरूरी है। इसी उद्देश्य के साथ 73 वर्षीय हरीश ने भी अपना वोट डाला। 82 वर्षीय लोपताग शरिंग ने कहा कि मजबूत सरकार और मजबूत प्रतिनिधि के लिए वोट दिया है ताकि क्षेत्र की बेहतरी की सोच सके।

युवाओं की माग के विकास के मसले पर हैं। एक बात बार-बार आती है कि यूटी का दर्जा उनकी किस्मत बदल सकता है और तेज विकास की राह खोल सकता है। 32 वर्षीय रिनचिन कहते हैं कि अब विकास के लिए तेज कदम नए सासद को उठाने होंगे। इसी अपेक्षा के साथ वह वोट डालने आए हैं। 33 वर्षीय राहुल, पासके, रिनचेन, च्वाग स्टेनजिन, सरिआमो, रिगजिन नोरबे सहित अन्यों ने लद्दाख में शिक्षा के विस्तार, बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं की आशा के साथ अपना वोट डाला।

वहीं पहली बार अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे स्टेंजिन ओतसल, अरशद लतीफ, अंसार हुसैन, ताशी ने कालेजों में शिक्षा ढाचे को मजबूत बनाने, स्वास्थ्य सुविधाओं में बढ़ोतरी करने की बात कही। इन युवाओं ने कहा कि राजनीतिक दलों ने इस संभाग की हमेशा से ही अनदेखी की है। अब कुछ हद तक बेहतर कार्य हुए हैं। उम्मीद है कि केंद्र में सत्ता में आने वाली सरकार इसी तरह लद्दाख के लोगों की समस्याओं को गंभीरता से लेगी और उन्हें हल करने के लिए प्रभावी कदम उठाएगी। अगले पाच सालों में लद्दाख में विकास की गति और तेज होगी। सुधरे खेलों का ढाचा

आइस हॉकी के पूर्व राष्ट्रीय कप्तान तुनदुप नामग्याल मतदान के लिए पहुंचे। उन्होंने कहा कि नए सासद से अपेक्षा है कि खेल सुविधाओं में बढ़ोतरी की जाए। इसी माग के साथ अपना वोट डाला। उन्होंने कहा कि अभी लद्दाख में बहुत कुछ किया जाना बाकी है। यहा के लोग अभी भी सुविधाओं के मामले में काफी पिछड़े हुए हैं। केंद्र में आने वाली सरकार ये लद्दाख निवासियों की यही उम्मीद रहेगी कि वे इन समस्याओं का स्थायी समाधान निकालें। ------

दोनों दलों ने किए जीत के दावे

मतदान के बाद भाजपा और काग्रेस जीत के दावे करते नजर आए। भाजपा के एमएलसी विक्त्रम रंधावा ने कहा कि विकास के नाम पर जनता ने भाजपा को वोट दिया है। हमें लेह और कारगिल दोनों जिलों से काफी वोट मिला। मोदी सरकार की नीतिया हमारी जीत का आधार बनीं। काग्रेस प्रत्याशी रिंगिजन स्पालबार ने दावा किया कि उनका चुनाव काफी बेहतर रहा और लोगों से खूब समर्थन मिला। लोग भाजपा के वादे पूरे न करने से नाराज थे। काग्रेस ने लाए भाजपा पर आरोप

काग्रेस ने चुनाव अधिकारी को शिकायत देकर आरोप लगाया कि भाजपा ने जंस्कार में गलत तरीके इस्तेमाल किए। काग्रेस के आरोप पर भाजपा ने पलटवार करते हुए कहा कि समर्थन खोने के कारण काग्रेस प्रत्याशी ऐसे आरोप लगा रहे हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस