श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। आतंकियों ने शुक्रवार को लालचौक में सीआरपीएफ के बंकर को उड़ाने के लिए ग्रेनेड हमला किया, लेकिन किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ। इसी बीच, पुलिस ने ग्रीष्मकालीन राजधानी में सक्रिय आतंकियों के लिए उत्तरी कश्मीर से लाई जा रही हथियारों की खेप और पांच लाख की नकदी के साथ दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया।

शाम करीब पौने सात बजे आतंकियों ने लालचौक में स्थित सीआरपीएफ की 132वीं वाहिनी के बंकर पर ग्रेनेड से हमला किया। ग्रेनेड बंकर के बाहर सड़क पर गिरा और जोरदार धमाके के साथ फट गया। हमले में जवान बाल-बाल बच गए। हमले के फौरन बाद आतंकी वहां से भाग निकले।

सीआरपीएफ और पुलिस के जवानों ने तुरंत लालचौक और उसके साथ सटे इलाकों में घेराबंदी करते हुए तलाशी अभियान चलाया, लेकिन आतंकियों का कोई सुराग नहीं मिला। इससे पूर्व शाम साढ़े चार बजे श्रीनगर-बारामुला राष्ट्रीय राजमार्ग पर लावेपोरा के पास राज्य पुलिस के विशेष अभियान दल (एसओजी) के जवानों ने आतंकियों की आवाजाही की सूचना पर नाका लगा रखा था। जवान वहां से गुजरने वाले वाहनों और लोगों को रोक कर उनकी जांच पड़ताल कर रहे थे। इसी दौरान बारामुला की तरफ से एक कार जेके013सी-2094 दिखाई दी।

यह कार श्रीनगर की तरफ ही आ रही थी। नाका देखकर चालक ने कार की गति धीमी की और वापस मुड़ने का प्रयास किया। जवानों ने देख लिया। नाका पार्टी ने कार की तलाशी ली तो उसमें बड़ी ही चालाकी से छिपाकर रखी गई हथियारों की खेप और पांच लाख की नकदी बरामद की।

पुलिस ने चालक व उसके साथ मौजूद दूसरे व्यक्ति को भी गिरफ्तार कर लिया। हथियरों की खेप में 12 हथगोले, एक इनसास राइफल और एक एके-47 राइफल है। संबंधित अधिकारियों ने बताया कि पकड़े गए दोनों संदिग्ध युवकों ने श्रीनगर, बडगाम और बारामुला में सक्रिय आतंकी नेटवर्क के बारे में कई अहम जानकारियां दी हैं। देर रात गए तक दोनों से पूछताछ जारी थी। 

आइबी, एलओसी पर बन रहे बंकरों की समीक्षा की

डिवीजनल कमिश्नर जम्मू संजीव वर्मा ने जम्मू संभाग में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर बंकरों के निर्माण की प्रगति की समीक्षा के लिए सीमावर्ती जिलों के डिप्टी कमिश्नरों के साथ बैठक की। बैठक में डिप्टी कमिश्नर सांबा सुषमा चौहान, असिस्टेंट कमिश्नर रेवेन्यू जम्मू संजय कुमार, चीफ इंजीनियर सड़क एवं भवन निर्माण सुधीर शाह के अतिरिक्त कई अधिकारी मौजूद थे।

कठुआ, राजौरी और पुंछ के डिप्टी कमिश्नरों ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक में भाग लिया। कठुआ के डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि 1956 व्यक्तिगत बंकरों में से 452 व्यक्तिगत बंकरों पर काम चल रहा है। 237 बंकर लगभग पूरे हो चुके हैं। सांबा, राजौरी, पुंछ के डिप्टी कमिश्नरों ने अपने सम्बंधित जिलों में बंकरों के निर्माण की स्थिति के बारे में डिवीजनल कमिश्नर को अवगत कराया।

उन्होंने अपने-अपने जिलों में निर्माण करवा रही एजेंसियों द्वारा अब तक किए गए कार्यों की जानकारी दी और भविष्य की योजना को डिवीजनल कमिश्नर के साथ साझा किया। राजौरी के डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि 2000 बंकरों में से 310 बंकरों का आवंटन हो चुका है और 602 मूल्यांकन चल रहा हैं जबकि 60 बंकरों पर काम चल रहा है। पुंछ के डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि कुल 152 सामुदायिक बंकर और 129 व्यक्तिगत बंकर आवंटित किए गए हैं जबकि 20 बंकरों पर काम जारी है।

डिवीजनल कमिश्नर ने संबंधित जिलों के असिस्टेंट इंजीनियरों, जूनियर इंजीनियरों और ठेकेदारों की समीक्षा बैठक करने और कार्य में तेजी लाने के लिए रणनीति तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने डिप्टी कमिश्नरों को नियमित आधार पर प्रगति रिपोर्ट पेश करने और अपने जिले में बंकरों के निर्माण पर काम की सही निगरानी करने को कहा। उन्होंने काम की गति में तेजी लाने और समयसीमा के भीतर पूरा करने के लिए कहा।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप