जम्मू, राज्य ब्यूरो : जम्मू में भगवान वेंकटेश्वर मंदिर निर्माण शुरू होने पर प्रदेश के हिंदू ही नहीं, बल्कि मुस्लिम समुदाय में भी खुशी है। यह मंदिर सिदड़ा के मजीन में होगा। यह मंदिर जम्मू कश्मीर में धर्म ही नहीं, बल्कि राष्ट्रवाद की भावना का भी प्रतीक बनेगा। मंदिर का भूमि पूजन रविवार को हो गया है। इसे महज 18 माह में बनाकर तैयार कर लिया जाएगा।

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री डा. जितेंद्र्र सिंह का कहना है कि मंदिरों के शहर जम्मू में तिरुपति श्री वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर का निर्माण आस्था के लिए मील का पत्थर होगा। यह मंदिर खुशहाली व तरक्की लाएगा। श्री माता वैष्णो देवी, वाबे वाली माता, रघुनाथ मंदिर के साथ यह मंदिर अहम साबित होगा। तिरुमला तिरुपति बोर्ड मंदिर शिक्षा और स्वास्थ्य को भी बढ़ावा देने के लिए मशहूर है। ऐसे में सिदड़ा क्षेत्र का आर्थिक व सामाजिक विकास होना तय है। इससे जम्मू में विकास के नए रास्ते खुलेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पूरी कोशिश है कि जम्मू कश्मीर में विकास को बढ़ावा दिया जाए। 

वैदिक शिक्षा को बढ़ावा: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने कहा कि जम्मू में बनने जा रहे तिरुपति श्री वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर में केंद्रीय वेदशाला भी होगी। उत्तर व दक्षिण भारत की यह संयुक्त वेद पाठशाला वैदिक शिक्षा को बढ़ावा देगी। श्री माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए आने वाले भक्त श्री वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर के दर्शन के लिए भी आएंगे। इससे विकास को भी तेजी मिलेगी। मंदिर बनने से क्षेत्र के लोगों की धार्मिक आकांक्षाओं की पूर्ति होगी। राष्ट्रीय अखंडता को मजबूती देने वाला जम्मू का यह भव्य मंदिर भविष्य में बहुत महत्वपूर्ण साबित होगा।

भाईचारा मजबूत होगा: सामाजिक कार्यकर्ता सलीम रेशी ने कहा कि हिंदू बिरादरी के भाइयों को, जम्मू कश्मीर के सभी हमवतनों को तिरुपति मंदिर निर्माण शुरू होने की मुबारक हो। उन्होंने कहा कि यह मंदिर कई लोगों के लिए मजहब का एक मरकज (केंद्र) होगा, लेकिन मेरे मुताबिक यह यहां राष्ट्रवाद और मजहबी भाईचारे को मजबूत बनाएगा। मैंने सुना है कि यह मंदिर दक्षिण भारत में है। वहां हमारे कश्मीर के कई भाई कश्मीरी हैंडक्राफ्टस का भी कारोबार करते हैं। मंदिर बनने से यहां भी कारोबार बढ़ेगा और जो मंदिर की यात्रा पर आएगा,वह कश्मीर भी घूमने जाएगा। यहां जो कुछ शरारती तत्व है वह कमजोर पड़ेंगे, कश्मीर और देश के अन्य हिस्सों के लोगों में जो कुछ दूरी कही जाती है, वह दूर होगी।

स्थानीय अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : जम्मू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डा. परिक्षत मन्हास ने कहा कि मजीन में मंदिर पूरे क्षेत्र के र्आिथक स्वरूप को बदलेगा। मंदिर निर्माण में ही करीब 20 से 25 हजार लोगों को परोक्ष रोजगार मिलेगा। इसके बाद जब मंदिर बनेगा तो आस पास होटल खुलेंगे, रेस्तरां बनेंगे, दुकानें खुलेंगी, टैक्सियों की आवाजाही होगी। कई अन्य सेवाएं शुरूहोंगी। कुछ बड़े कारोबारी जम्मू या अन्य जगहों से आएंगे। यह रोजगार और अर्थव्यवस्था की मजबूती का एक बड़ा जरिया होगा।

स़ुुरुंईसर और मानसर का भी बढ़ेगा मान : जम्मू के निकट दो झीलें सुरुंईसर और मानसर हैं। दोनों ही र्धािमक आस्था का केंद्र हैं और इनका संबंध महाभारत काल से है। यह दोनों मजीन गांव से 20 से 30 किलामीटर की दूरी पर हैं। भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालु भी इन झीलों की सैर करने और इनके किनारे स्थित पौराणिक काल के मंदिरोें की तीर्थयात्रा के लिए जाएंगे।

मंदिर का बनना गर्व की बात: रैना

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रविन्द्र रैना का कहना है कि नेशनल हाईवे के पास बनने वाला यह मंदिर मील का पत्थर साबित होगा। तिरुपति श्री वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर का बनना बड़े गर्व की बात है। अब उत्तर भारत के लोग भी अपने घर के पास श्री वेंकटेश्वर स्वामी के दर्शन कर पाएंगे। श्री माता वैष्णो देवी की यात्रा के लिए आने वाले लोगों के लिए अब भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन करने का भी स्वर्णिम अवसर होगा।

जम्मू-कश्मीर के लिए सौगात: जुगल

जम्मू पुंछ के भाजपा सांसद जुगल किशोर शर्मा का कहना है कि सिद्ड़ा में तवी नदी के पास बनने वाला बालाजी मंदिर जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए एक सौगात होगा। इस खूबसूरत मंदिर के एक ओर नदी व शहर तो दूसरी ओर पहाड़ियां व सिद्ड़ा है। दिल्ली-कटड़ा सुपर हाईवे भी यहां से गुजरेगा। देश व विदेश से श्रद्धालु यहां आएंगे। ऐसे में आस्था के साथ पर्यटन भी बढ़ेगा।

  • नगरोटा विधानसभा क्षेत्र में वेंकटेश्वर मंदिर का बनना एक बड़ी उपलब्धि है। मैंने उपराज्यपाल से बात की है कि इस मंदिर में स्थानीय लोगों को रोजगार दिया जाए। उन्हें निर्माण कार्य में भी शामिल किया जाए। मुझे यकीन है कि माता वैष्णो देवी के की भक्त यहां आएंगे। जम्मू में बनने जा रहा यह मंदिर आने वाले वक्त में उत्तर भारत का एक अहम धार्मिक स्थान होगा। - देवेंद्र राणा, संभागीय अध्यक्ष, नेकां
  • वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर धार्मिक आस्था का केंद्र होने के साथ क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को भी बल देगा। इस मंदिर में दक्षिण भारत के मंदिरों की खूबसूरती दिखेगी। इससे जम्मू को नई पहचान मिलेगी। इससे प्रदेश में आने वाले लोगों के पास एक भव्य मंदिर देखने का अवसर मिलेगा। यह मंदिर जम्मू कश्मीर में धार्मिक पर्यटन को और बढ़ावा देगा। इसके बनने से क्षेत्र का विकास होगा। रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। -कविन्द्र गुप्ता, पूर्व उपमुख्यमंत्री 

Edited By: Rahul Sharma