जम्मू, राज्य ब्यूरो। जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान के मंसूबों को नापाक बना रही सेना के 3 जवान ने चार दिनों में वीरगति पाई है। रविवार को बारामूला के उड़ी सेक्टर में सेना के सिग्नलमैन संतोष गोप ने पाकिस्तान की गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब देते हुए शहादत पाई थी। इससे पहले जम्मू संभाग के नौशहरा के कलाल में पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी में नायक सुभाष थापा शहीद हुए थे। कश्मीर के हंदवाड़ा के नौगाम सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर हुए बारूदी सुरंग विस्फोट में शहीद हुए सैनिक अभिजीथ पीएस का पार्थिव शरीर आज सैन्य सम्मान के साथ केरल भेजा गया।

श्रीनगर में सेना की चिनार कोर मुख्यालय बादामी बाग में शहीद सैनिक अभिजीथ को श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। वह एलआेसी पर पेट्रोलिंग के दौरान हुए बारूदी सुरंग विस्फोट में शहीद हुए थे। बारूदी सुरंग के इस विस्फोट में सेना के दो जवान भी घायल हो गए थे। सैन्य अस्पताल में उनका उपचार चल रहा है। बादामी बाग में कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों ने शहीद को सलामी दी। कोर कमांडर ने साेमवार को इसी जगह पर सिपाही संतोष गोप को भी सलामी दी थी।

कोर कमांडर के साथ सेना, सुरक्षाबलों, नागरिक, पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी आज शहीद को श्रद्घांजलि दी। इसी बीच सेना की उत्तरी कमान के आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने भी शहीद सैनिक को श्रद्धांजलि दी है।

कोर मुख्यालय में श्रद्धांजलि समारोह के बाद शहीद अभिजीथ अमर रहे के नारों के बीच सेना के सजाए गए गए वाहन से शहीद के पार्थिव शरीर को श्रीनगर एयरपोर्ट ले जाया गया। श्रीनगर एयरपोर्ट से विशेष विमान से शहीद के पार्थिव शरीर को घर रवाना कर दिया गया। शहीद सैनिक के साथ उनकी यूनिट के कुछ जवान भी रवाना हुए।

सिपाही अभिजीथ 13 अक्टूबर की रात को निगरानी मिशन के दौरान बारूदी सुरंग विस्फोट की चपेट में आने के बाद गंभीर रूप से घायल हो गए थे। उन्हें पट्टन के फील्ड अस्पताल ले जाया गया यहां पर उनका निधन हो गया। शहीद सैनिक 23 साल के थे व तीन साल पहले ही वह सेना में भर्ती हुए थे। वह केरल के कोल्लम जिले के अराकल गांव के रहने वाले थे। शहीद सैनिक अपने पीछे माता पिता को छोड़ गए हैं। 

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप