मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

किश्तवाड़, संवाद सहयोगी। पीडीपी किश्तवाड़ जिला प्रधान एडवोकेट शेख नासिर हसुैन के अंगरक्षक की राइफल छीन भागे आतंकवादियों का अभी तक कोई सुराग नहीं लग पाया है। जिला प्रशासन ने कस्बे में अभी अलर्ट जारी रखा है। पुलिस व सेना के जवानों ने विशेष नाके लगाए हुए हैं और मुहल्लों की तलाशी ली जा रही है। सुरक्षाबलों का कहना है कि आतंकी अभी भी कस्बे में मौजूद हैं और उन्हें जल्द ही पकड़ लिया जाएगा। फिलहाल दिन में लगाए गए कर्फ्यू को हटा लिया गया है।

यह इस साल किश्तवाड़ में दूसरा मामला है जब आतंकवादियों ने किसी अंगरक्षक से हथियार छीने हैं। अधिकारियों ने कहा कि शुक्रवार को हथियार छीनने की घटना के बाद कस्बे में लगाया गया कर्फ्यू हटा लिया गया है, लेकिन सभी शैक्षणिक संस्थान एहतियात के तौर पर अभी बंद रहेंगे। जिला विकास आयुक्त अंग्रेज सिंह राणा ने बताया पीडीपी जिला प्रधान के एसपीओ का हथियार लेकर फरार आतंकियों की तलाश जारी है। कर्फ्यू हटा लिया गया है परंतु शहर के सभी शैक्षणिक संस्थानों फिलहाल अगले आदेश तक बंद रखा जाएगा। यही नहीं रात के समय भी क्षेत्र में कर्फ्यू कायम रहेगा।

यह वारदात जिला मुख्यालय से मात्र दो किलोमीटर दूर गुंरियन मोहल्ले में हुई। गत वीरवार रात ग्यारह बजे चार आतंकी हथियारों के साथ पीडीपी जिला प्रधान शेख नासिर हुसैन के घर में घुस गए। उन्होंने घर के सभी सदस्यों को बंधक बना लिया। उस समय घर पर नासिर, उनकी पत्नी, दो छोटे बच्चे व माता-पिता के अलावा उनका भाई डॉ. नजीर हुसैन उनकी पत्नी व एक बच्चे व नौकर सहित कुल 10 लोग थे। उस समय नासिर का अंगरक्षक (पीएसओ) घर पर नहीं था।

परिवार को रस्सियों से बांध मुंह में ठूंसा कपड़ा

पीडीपी नेता के भाई नजीर ने बताया कि आतंकियों के पास एक एके-47 राइफल और दो के पास पिस्टल थी। उन्होंने घर की महिलाओं व बच्चों को एक कमरे में बंद कर दिया और उन्हें रस्सियों से बांधकर दूसरे कमरे में ले गए। आतंकियों ने उनके मुंह में कपड़ा ठूंस दिया, ताकि वे चिल्ला न सकें।

आतंकी बोले, हमें नासिर हुसैन और अंगरक्षक को मारने का है निर्देश

आतंकियों ने परिवार को कहा कि उन्हें पीडीपी नेता नासिर हुसैन और उनके पीएसओ को मारने का निर्देश है। इसलिए पीएसओ को बुलाओ। वह दोनों को अपने साथ लेकर जाएंगे। रातभर आतंकी उनके घर में जमे रहे और आस पड़ोस में कोई भनक तक नहीं लगी। डरे-सहमे परिवार के लोग कुछ नहीं बोल पाए। वे बार-बार उन्हें छोडऩे की गुहार लगाते रहे, लेकिन आतंकी नहीं पाने।

आतंकियों-अंगरक्षक में हाथापाई

सुबह जब नासिर हुसैन का पीएसओ घर आया तो आतंकियों ने बड़ी चालाकी से उसे भी दबोच लिया और उसकी इनसास राइफल भी छीन ली। इस दौरान पीएसओ की आतंकियों के साथ हाथापाई भी हुई, लेकिन आतंकी अधिक होने की वजह से वह कुछ नहीं कर पाया। बाद में आतंकी नासिर के छोटे भाई डॉक्टर नजीर हुसैन की वैगनआर कार जेके-17- 6571 में सवार होकर वहां से फरार हो गए। जाते समय वह बाहर से घर पर ताला लगा गए।

आतंकियों की तलाश तेज

आतंकियों के जाने के बाद पीएसओ से किसी तरह अपनी रस्सी खोली और घटना की जानकारी तुरंत स्थानीय पुलिस स्टेशन में दी। इसके बाद पुलिस व सेना के जवानों ने घर पहुंचकर सुबह करीब ग्यारह बजे सभी को बाहर निकाला। इसके बाद पूरे क्षेत्र की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया। सुबह वैगनआर कार डुल इलाके में बरामद कर ली गई, लेकिन आतंकियों का कोई सुराग नहीं मिला।

आतंकियों की कर ली गई है पहचान

डीएसपी हेडक्वार्टर सन्नी गुप्ता ने बताया कि आतंकियों की पहचान कर ली गई है। इनमें ओसामा बिन जावेद, हरुन वानी, नावेद और साजिद शामिल हैं। ये सभी वही आतंकीं वही हैं, जो पहले भी किश्तवाड़ में कई वारदातों में शामिल रहे हैं।

जल्द पकड़े जाएंगे आतंकी

किश्तवाड़ के जिला उपायुक्त अंग्रेज सिंह राणा ने वारदात की पुष्टि करते हुए कहा कि एहतियातन कस्बे में कफ्यरू लगा दिया गया है। किश्तवाड़ का पूरा इलाका घेर लिया गया है। हर आने जाने वाले रास्ते को सील कर दिया गया है। उम्मीद है आतंकी जल्द पकड़े जाएंगे।  

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप