श्रीनगर, जेएनएन। कश्मीर में जिहाद की आग को भड़काने के लिए कई सालों से नापाक मंसूबे बुन रहे आतंकी संगठन यहां सामान्य होते हालात को देख हताश नजर आ रहे हैं। कश्मीर में आतंकवाद की जड़े अभी भी कायम है, ये संदेश देशभर में पहुंचाने के लिए अब ये हताश आतंकवादी बाहरी लोगों को अपना निशाना बना रहे हैं।

पुलवामा के काकपोरा क्षेत्र में एक बार फिर आतंकवादियों ने बाहरी श्रमिक की गोली मारकर हत्या कर दी। हत्या की इस वारदात को अंजाम देने के बाद आतंकवादी वहां से फरार होने में कामयाब हो गए परंतु पुलिस और सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर आतंकवादियों की तलाश शुरू कर दी है।

पुलिस के अनुसार श्रमिक की पहचान सेठी कुमार सागर निवासी छत्तीसगढ़ के रूप में हुई है। वह पुलवामा के नेहामा में ईंट के भट्ठे में काम करता था। शव को कब्जे में लेकर पुलिस ने उसे पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल में भेज दिया है। आतंकवादियों का पता लगाने के लिए काकपोरा इलाके में विशेष नाके लगाए गए हैं। हरेक आने-जाने वाले वाहन की तलाशी ली जा रही है। यही नहीं पुलिस की एसओजी टीम और सैना के जवानों ने घरों में सर्च आपरेशन भी चलाया हुआ है।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद आतंकियों द्वारा किसी बाहरी व्यक्ति की हत्या की यह दूसरी वारदात है। इससे पहले गत सोमवार को आतंकियों ने शोपियां में राजस्थान के एक ट्रक चालक की हत्या कर उसके ट्रक को आग के हवाले कर दिया था। सूत्रों का कहना है कि आतंकवादी व्यापार बाधित करने और बाहरी राज्यों से घाटी आ रहे लोगों में भय पैदा करने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने भी ट्वीट पर छत्तीसगढ़ के श्रमिक के मारे जाने की पुष्टि करते हुए कहा कि इलाके की घेराबंदी कर दी गई है और खोज जारी है। पुलिस का कहना है कि सोमवार को जिस राजस्थान के ट्रक चालक की हत्या आतंकवादियों ने की थी, वह भी बाग से सेब भरकर वापिस आ रहा था। कश्मीर में फल का व्यापार शुरू होने से आतंकी काफी हताश हैं, इसे बाधित करने की इच्छा से ही उन्होंने पहले ट्रक चालक शरीफ खान की हत्या की और उसके बाद ट्रक को आग के हवाले कर दिया ताकि इस हादसे के बाद दूसरे ट्रक चालक यहां आने से परहेज करें। पुलिस का कहना है कि हत्या की इस घटना में दो आतंकवादी शामिल थे, जिनमें से एक पाकिस्तानी नागरिक है।

वहीं दिन के उजाले में आतंकवादियों द्रा की गर्इ ट्रक चालक की हत्या से भयभीत राज्य के अन्य हिस्सों से कश्मीर में सेब भरने के लिए आए कई ट्रक चालकों ने घाटी छोड़ दी है।

किसानों को हर संभव सुरक्षा देगी सेना

वहीं सेना के जनरल ऑफिसर कमांडिंग (जीओसी) लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों ने किसानों को आश्वासन दिया कि कटार्इ व व्यापार प्रभावित न हो इसके लिए सेना उन्हें हर संभव सुरक्षा प्रदान करेगी। उन्होंने आगे कहा कि सेना कभी भी आतंकवादियों को अपने मंसूबों में कामयाब नहीं होने देंगे। वह बाहरी लोगों को निशाना बनाकर व स्थानीय व्यापारियों को मारकर-डराकर व्यापार को प्रभावित करना चाहते हैं, यहां की शांति को बनाए रखने के लिए सेना हर दम तैयार है। उन्होंने किसानों को यकीन दिलाया कि उनकी सुरक्षा के लिए सेना हरदम तैयार है। जीआेसी ढिल्लों ने कहा कि सोमवार को आतंकवादियों ने जब राजस्थान के चालक शरीफ खान को मारा तब वह अपने ट्रक पर फलों के बक्से लोड कर रहा था। आतंकवादियों ने बाग मालिक की भी पिटाई की और ट्रक में आग लगा दी।

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप