श्रीनगर, जेएनएन : जिला बारामुला के चेरदानी इलाके में सुरक्षाबलों ने एक हाइब्रिड आतंकी जावेद अहमद वानी को मार गिराया है। बताया जा रहा है कि जावेद को बारामुला में एक दुकानदार को निशाना बनाने का जिम्मा सौंपा गया था। पुलिस को इस बात की भनक लग गई। सेना और पुलिस का संयुक्त दल समय से पहले ही वहां पहुंच गया। सुरक्षाबलों को अपने सामने देख आतंकी ने उन पर गोलियां बरसाना शुरू कर दिया और जवाबी कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने आतंकी जावेद को मार गिराया। मारे गए आतंकवादी से एक पिस्तौल, उसकी मैगजीन व पाकिस्तान निर्मित ग्रेनेड बरामद किया है।

आइजीपी कश्मीर विजय कुमार ने आतंकी के मारे जाने की पुष्टि करते हुए कहा कि उसकी पहचान कर ली गई है। उसका नाम जावेद अहमद वानी था और वह कुलगाम का रहने वाला था। इसे हम हाइब्रिड टाइप आतंकी कह सकते हैं। गत 17 अक्टूबर को आतंकवादियों ने कुलगाम के वानपोह इलाके में श्रमिकों की बस्ती पर जो हमला किया था, जावेद उसमें मददगार था। आतंकियों की अंधाधुंध फायरिंग में बिहार के दो मजदूरों राजा रेशी देव, जोगिंदर रेशी देव की मौत हो गई थी जबकि बिहार का एक अन्य मजदूर चुनचुन रेशी देव घायल हो गया। गोलियां चलाने वाला गुलजार अहमद था जिसे गत 20 अक्टूबर को सुरक्षाबलों ने एक मुठभेड़ के दौरान मार गिराया था। यह तब से इधर-उधर छिपता फिर रहा था।

आज जब इसने सेना और पुलिस की एडीपी पर हमला करने का प्रयास किया तो सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई में इसे भी मार गिराया। आइजीपी विजय कुमार ने यह भी जानकारी दी कि जावेद को बारामूला के एक दुकानदार को निशाना बनाने की जिम्मेदारी दी गई थी। इस बात की जानकारी हमें अपने सूत्रों से मिली थी।

आपको बता दें कि आतंकी संगठनों ने इसी माह कश्मीर में टारगेट किलिंग का सिलसिला शुरू किया है। अब तक घाटी में करीब 11 लोगों की हत्याएं की गई हैं। इसके जवाब में सुरक्षाबलों ने अभियान में तेजी लाई और इन हत्याओं में शामिल आतंकियों समेत करीब 18 आतंकवादियों को अब तक मार गिराया है। वहीं इस साल की बात करें तो जम्मू-कश्मीर में अब तक 67 मुठभेड़ों में सुरक्षाबलों ने 132 आतंकवादियों को मार गिराया। आतंकवाद के खिलाफ सुरक्षाबलों का अभियान अभी भी जारी है।

Edited By: Rahul Sharma