जागरण संवाददाता, जम्मू : 22 अक्टूबर, 1947 को कश्मीर पर पाकिस्तानी कबायली हमले के विरोध में गुलाम कश्मीर रिफ्यूजियों ने दिल्ली के जंतर-मंतर में ब्लैक डे मनाया।

रिफ्यूजियों के हक के लिए लड़ रही एसओएस इंटरनेशनल के बैनर तले काफी संख्या में गुलाम कश्मीर के रिफ्यूजी जंतर-मंतर पहुंचे थे जहां उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन भी किया। रिफ्यूजियों ने बाजू पर काली पट्टियां बांध रखी थीं और गले में विरोध जताते बैनर भी टांग रखे थे। इस प्रदर्शन में जम्मू-कश्मीर के अलावा पंजाब, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार व देश के अन्य हिस्सों में बसे रिफ्यूजियों ने भाग लिया, जिसका नेतृत्व एसओएस इंटरनेशनल के चेयरमैन राजीव चुनी ने किया। रिफ्यूजियों ने जंतर-मंतर पर पाकिस्तान का पुतला भी जलाया।

चुनी ने अपने संबोधन में सरकार पर रिफ्यूजियों का पुनर्वास न करने पर रोष भी व्यक्त किया। उनका कहना था कि रिफ्यूजी अपना पुनर्वास मांग रहे हैं लेकिन कोई भी सरकार उनकी मांग को पूरा नहीं कर पाई है। उन्होंने पाकिस्तान के कब्जे में गुलाम कश्मीर को वापस लेने की मांग भी सरकार से की। उन्होंने गुलाम कश्मीर रिफ्यूजियों को इंटरनेशनल रिफ्यूजी का दर्जा देने, असेंबली में आठ सीटें और लोकसभा व राज्यसभा में एक एक सीट उनके लिए रखने जैसी मांगे भी सरकार से की।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस