मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

राज्य ब्यूरो, जम्मू : पूर्व विदेश मंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज के आकस्मिक निधन से जम्मू-कश्मीर में शोक की लहर दौड़ गई है। प्रदेश भाजपा के साथ कांग्रेस व अन्य राजनीतिक पार्टियों ने भी दुख जताया। बुधवार को प्रदेश भाजपा ने सारे कार्यक्रम रद कर दिए। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष रविंद्र रैना संवाददाता सम्मेलन को टाल दिवंगत सुषमा स्वराज के अंतिम संस्कार में शामिल होने दिल्ली पहुंच गए। रैना ने कहा कि सुषमा स्वराज के निधन से देश को जो क्षति पहुंची है, उसकी कभी पूर्ति नहीं हो सकती। आज देश ने एक महान नेता खो दिया है। अनुच्छेद 370 व 35ए के खत्म होने पर बुधवार को पार्टी मुख्यालय में होने वाले सभी कार्यक्रम रद कर दिए गए हैं। जम्मू कश्मीर से विशेष जुड़ाव

सुषमा स्वराज का जम्मू कश्मीर की राजनीति से विशेष जुड़ाव रहा है। वह शुरू से राज्य के विशेष दर्जे को हटाने की पैरवी करती आई हैं। उन्होंने सोमवार को निधन से कुछ समय पहले ही अनुच्छेद-370 और 35ए समाप्त करने के फैसले का स्वागत किया था। वर्ष 2002 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने जम्मू में चार दिन तक डेरा डाल पार्टी प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार किया था। जम्मू, नगरोटा व कई अन्य क्षेत्रों में जनसभाएं की थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप