जम्मू, विकास अबरोल । कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए भले ही भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने खिलाड़ियों के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं लेकिन जम्मू-कश्मीर के अधिकतर इंडोर स्पोर्ट्स कांप्लेक्स क्वारंटाइन सेंटर बनाए जाने से फिलहाल खुलने की संभावना नहीं है। खिलाड़ी घरों पर ही अभ्यास कर रहे हैं। अब हालात सामान्य होने के बाद ही साई के जम्मू सेंटर में खेल गतिविधियां शुरू हो पाएंगी।

देशभर के विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में साई के सेंटर हैं। इनमें से अधिकतर में साई द्वारा जारी गाइडलाइंस के अनुरूप खिलाड़ियों ने अभ्यास भी शुरू कर दिया है लेकिन साई के जम्मू सेंटर में कोच और खिलाड़ियों को अभी इंतजार करना होगा। सरकार ने जम्मू जिला को ऑरेंज जोन में रखा है और स्टेडियम व अन्य स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में खेल गतिविधियां करवाने की पूरी छूट है। सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर स्टेट स्पोर्ट्स काउंसिल के अधीनस्थ मौलाना आजाद स्टेडियम के नए इंडोर स्पोर्ट्स कांप्लेक्स सहित भगवती नगर स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में क्वारंटाइन केंद्र बनाए गए हैं। इनमें दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को रखा गया है। ऐसे में स्पोर्ट्स काउंसिल खिलाड़ियों को मौलाना आजाद स्टेडियम के अन्य आउटडोर और पुराने इंडोर कांप्लेक्स में अभ्यास के लिए अनुमति देकर उनकी जान जोखिम में डालना नहीं चाहती है।

साई की गाइडलाइन के बावजूद जम्मू में बंद है इसका केंद्र, खिलाड़ियों को अब हालात सामान्य होने का इंतजार

साई के जम्मू सेंटर में बास्केटबॉल, हैंडबॉल, वॉलीबॉल और बैडमिंटन के खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दिया जाता है। फिलहाल मैदान बंद होने से खिलाड़ियों का अभ्यास संभव नहीं है। बैडमिंटन को छोड़कर बास्केटबॉल, हैंडबाल और वॉलीबॉल खेल में शारीरिक दूरी बनाए रखना काफी मुश्किल है। खिलाड़ी एक-एक कर ही अन्य खिलाड़ियों की अनुपस्थिति में अभ्यास कर सकते हैं। ऐसे में जब तक कोरोना महामारी पर पूरी तरह से काबू नहीं पा लिया जाता, खिलाड़ियों का अभ्यास संभव नहीं है। जम्मू सेंटर की ओर से इस बाबत चंडीगढ़ स्थित रीजनल कार्यालय को भी सूचित कर दिया गया है। अलबत्ता जम्मू सेंटर ने अभी से खिलाड़ियों के अभ्यास के लिए सभी उचित बंदोबस्त भी कर लिए हैं।

साई सेंटर के अधिकारियों और खिलाड़ी इंतजार कर रहे हैं कि कोरोना संक्रमण के हालात जल्द नियंत्रित हों ताकि स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में जल्द ही खेल गतिविधियां शुरू हो सकें। आगामी प्रतियोगिताओं के लिए खिलाड़ी अपनी तैयारी कर सकें।

यह हैं साई के दिशा-निर्देश :

  • खिलाड़ियों की सभी किट सैनिटाइज होनी चाहिए।
  • मैदान में आने से पहले खिलाड़ियों की स्क्रीनिंग जरूरी।
  • स्टाफ ग्लब्स पहनकर ही खिलाड़ियों को देंगे खेल सामग्री
  • कोच और स्टाफ को खिलाड़ी के बीमार होने की सूचना देनी होगी।
  • जिन खिलाड़ियों को कफ होगा उन्हें मैदान में प्रवेश करनी की अनुमति नहीं होगी।
  • खिलाड़ियों को शारीरिक दूरी बनाकर ट्रेनिंग करनी होगी

सोशल मीडिया से खिलाडियों को टिप्स दे रहे कोच

साई के जम्मू सेंटर के प्रभारी वीरेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि सेंटर में तैनात कोच सोशल मीडिया में ग्रुप बनाकर संबंधित खेलों के खिलाड़ियों को सुबह और शाम के सत्र में घर बैठकर फिटनेस के संबंधित टिप्स दे रहे हैं। खिलाड़ियों को सख्त हिदायत दी गई है कि वे लॉकडाउन का पालन करते हुए घर पर रहकर अभ्यास और फिटनेस के वीडियो बनाकर कोच को भेजें। उनका कहना है कि हालात कब सामान्य होंगे, कोई कुछ कह नहीं सकता लेकिन खिलाड़ियों को मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रखना बहुत जरूरी है। जम्मू सेंटर में बास्केटबॉल और हैंडबॉल के डे बोर्डिग में 16 खिलाड़ी हैं। इनमें से अधिकतर हरियाणा और उत्तर प्रदेश के हैं। जम्मू-कश्मीर के भी कुछ खिलाड़ी हैं। इस समय सभी सोशल मीडिया के सहारे ही स्वयं को फिट रख रहे हैं। यह सभी खिलाड़ी 15 मार्च को ही अपने घरों को लौट गए थे। अब स्थिति सामान्य होने के बाद ही लौटेंगे।

एमए स्टेडियम में क्वारंटाइन सेंटर बनाए जाने से फिलहाल खेल गतिविधियां संभव नहीं हैं। स्थिति सामान्य होने के बाद ही साई सेंटर समेत अन्य खेल गतिविधियां शुरू हो सकेंगी। - डॉ. नसीम जावेद चौधरी, सचिव, जम्मू-कश्मीर स्टेट स्पोर्ट्स काउंसिल

 

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस