जागरण संवाददाता, जम्मू : ट्रैफिक पुलिस पर बिना वजह तंग करने का आरोप लगाते हुए ऑटो चालकों ने ट्रांसपोर्ट कमिश्नर के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। ऑटो चालकों का कहना था कि ट्रैफिक पुलिस किसी न किसी बहाने चालान काट देती है। उनके सामने ऑटो चलाना भी मुश्किल हो गया है। प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे ऑटो यूनियन के प्रधान राम सरूप ने बताया कि ऑटो चालक मीटर पर चलते हैं। इसके बावजूद उनके मीट¨रग के चालान काटे जा रहे हैं। मीटर पर उनका किराया काफी कम है जिससे वह पेट्रोल का खर्च भी पूरा नहीं निकाल पाते। मीटर पर उनका पहले दो किलोमीटर का किराया 33 रुपये और उसके आगे दो किलोमीटर का किराया चौदह रुपये तय हुआ है जो काफी कम है। इतने में उनका पेट्रोल व ऑटो के रखरखाव का खर्च भी पूरा नहीं होता। उनकी मांग है कि उनका किराया पहले दो किलोमीटर पचास जबकि उसके आगे दो किलोमीटर का किराया पच्चीस रुपये किया जाए। वहीं प्रदर्शन कर रहे आटो चालकों का कहना था कि उनके पहले वर्दी के चालान काटे जा रहे थे। अब जब उन्होंने वर्दी भी पहन ली है तो इसके बाद भी किसी न किसी बहाने उनके चालान काटे जा रहे हैं। ट्रैफिक कर्मी उनसे बदतमीजी से पेश आते हैं। ट्रांसपोर्ट कमिश्नर कार्यालय पहुंचने से पहले आटो चालकों ने विवेकानंद चौक में पहले प्रदर्शन किया। प्रदर्शन को देखते हुए ट्रांसपोर्ट कमिश्नर डॉ. एसपी वैद ने यूनियन प्रधान राम सरूप से भेंट की और उनकी मांगों को सुना। डॉ. वैद ने भी आटो चालकों के किराए को बढ़ाए जाने पर विचार करने का आश्वासन दिया। वहीं राम सरूप ने इस दौरान आटो चालकों के लाइसेंस का मुद्दा भी ट्रांसपोर्ट कमिश्नर के समक्ष उठाया। उन्होंने मांग की कि आटो चालकों को लाइट मोटर व्हीकल के लाइसेंस पर गाड़ी चलाने की अनुमति दी जाए। कई राज्यों में इस लाइसेंस पर आटो चलाए जा रहे हैं। उन्होंने बिना सवारी बिठाए आटो चालकों के भी मीटर के नाम पर चालान काटे जाने का आरोप भी ट्रैफिक विभाग पर लगाए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस