जागरण संवाददाता, जम्मू :

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्यों ने मंगलवार रात तक सचिवालय के बाहर धरना देकर प्रदर्शन किया। इस दौरान एबीवीपी के सदस्यों ने नारेबाजी भी की और उप राज्यपाल से मांगों को जल्द पूरा करने की गुहार लगाई।

एबीवीपी के सदस्य अंडर ग्रेजुएट कोर्स से सेमेस्टर सिस्टम को खत्म करने, जम्मू कश्मीर में पचास हजार नौकरियां देने का वादा पूरा करने, शिक्षा विभाग में खाली पड़े पदों को भरने, शिक्षा क्षेत्र के व्यवसायीकरण और निजीकरण को समाप्त करने, एम्स का काम जल्द शुरू करने, स्कास्ट का नाम जम्मू कश्मीर एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी करने, केंद्रीय विवि के लिए भूमि का चयन व वहां विकास कार्यों की जांच के लिए सिट का गठन करने, शिक्षा क्षेत्र में राजनीतिक दखल रोकने, डोगरी और संस्कृत को आवश्यक विषय बनाए जाने, नौकिरयों में धांधलियों की सीबीआइ जांच करवाने व अन्य मांगों को लेकर सचिवालय के बाहर पहुंचे। यहां पर उन्होंने धरना देकर नारेबाजी शुरू कर दी। धरना प्रदर्शन का नेतृत्व परिषद की जम्मू सिटी इकाई के सचिव प्रतीक रैना ने किया। उन्होंने कहा कि वे 43 मांगों को लेकर यहां आए हैं। वे कई बार अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन भी सरकार को सौंप चुके हैं, लेकिन उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। परिषद के सस्यों ने सचिवालय के बाहर शिक्षा व अन्य क्षेत्रों में पनप रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ नारेबाजी भी की। उनका कहना था कि शिक्षा क्षेत्र में राजनीतिक दखल व व्यवसायीकरण विद्यार्थियों पर भारी पड़ रहा है। इससे उनकी पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है। उनका कहना था कि वे अपनी मांगों को लेकर समाज के हर वर्ग को जागरूक करेंगे। इस मौके पर एबीवीपी के सदस्यों ने जम्मू विवि से बस सेवा शुरू करने की मांग भी की।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप