जम्मू, जागरण संवाददाता: प्रदेश यूथ कांग्रेस के स्पोटर्स सैल ने जम्मू-कश्मीर स्टेट स्पोटर्स काउंसिल की दिशाहीन नीतियों से नाराज होकर प्रदर्शनी मैदान में एकत्र होकर स्पोटर्स काउंसिल और सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। स्पोटर्स सैल के चेयरमैन रणजोध सिंह के नेतृत्व में प्रदर्शनकारियों ने विभिन्न खेलों के एनआइएस से प्रशिक्षित बेरोजगार कोच को रोजगार दिए जाने के लिए उपराज्यपाल से हस्तक्षेप करने की मांग की है।

सिंह ने अफसोस जताया कि चार वर्षों से कोच की भर्ती प्रक्रिया आज तक पूरी नहीं हो पाई है। जम्मू कश्मीर स्टेट स्पोटर्स काउंसिल ने 24 अगस्त 2016 में विभिन्न खेलों के कोच के रिक्त पड़े 48 पदों की भर्ती के लिए आवेदन मांगे। उस समय केवल 17 क्वालीफाइड कोच ने आवेदन किया था। इसके उपरांत स्पोटर्स काउंसिल के पूर्व सचिव की देखरेख में भर्ती प्रक्रिया का काम कुछ आगे बढ़ा लेकिन कश्मीर के कुछ सदस्य जम्मू के कोच को इन पदों पर नियुक्त करने को लेकर नाखुश थे।

भर्ती प्रक्रिया के दौरान उम्मीदवारों के इंटरव्यू भी हुए लेकिन काफी समय तक इसका कोई परिणाम नहीं निकला। इसी दौरान गत वर्ष काउंसिल ने कोच के भर्ती संबंधी फाइल गुम कर दी। तो फिर आवेदकों ने पूर्व राज्यपाल के शिकायत सेल के संज्ञान में मामला लाया। इसके बाद उम्मीदवार पूर्व सलाहकार के विजय कुमार से मिले। जब यहां भी उनका समाधान नहीं मिला तो फिर उम्मीदवार कोर्ट की शरण में चले गए। कोर्ट के दिशा निर्देश पर तत्कालीन सरकार ने हरकत में आते हुए पूर्व सलाहकार ने काउंसिल की अधिसूचना जारी करने सहित इंटरव्यू के अंक वाला रिकॉर्ड गुम होने के संबंध में क्राइम ब्रांच में एफआइआर दर्ज करवाई लेकिन बावजूद इसके इस संबंध में कोई भी कार्रवाई नहीं हो पाई।

उम्मीदवारों ने इसके उपरांत उच्च न्यायालय में याचिका दर्ज करवाई। इसमें कोर्ट ने साफतौर पर दिशा निर्देश दिए गए चार महीनों के भीतर उम्मीदवारों की इंटरव्यू प्रक्रिया संपन्न कर ली जाए। इसके उपरांत जेएंडके स्टेट स्पोटर्स काउंसिल ने इंटरव्यू के संदर्भ में जम्मू के उम्मीदवारों के लिए अधिसूचना भी जारी की लेकिन इंटरव्यू कमेटी के चेयरमैन (युवा, सेवा एवं खेल विभाग के निदेशक) की उपलब्धता नहीं होने की वजह से बाद में स्पोटर्स काउंसिल ने इंटरव्यू स्थगित कर दिए थे।

उन्होंने कहा कि इससे सभी उम्मीदवार उम्रदराज की कगार पर पहुंच जाएंगे। उन्होंने उपराज्यपाल जीसी मुर्मू से इस मामले के जल्द से जल्द निपटारे की मांग की है ताकि बेरोजगाेर कोच को इंसाफ मिल सके। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021