जम्मू, जागरण संवाददाता। जेल विभाग के महानिदेशक हेमंत कुमार लोहिया की हत्या के बाद से फरार उनके घरेलू नौकर यासिर अहमद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलस के हाथ उसकी एक डायरी लगी है। 23 वर्षीय नौकर की डायरी को पढ़कर पुलिस अनुमान लगा रही है कि उसकी मानसिक स्थिति सही नहीं है। डायरी में वह मरने या मारने की बातें लिखा करता था।

'मैं अपनी जिंदगी से नफरत करता हूं'

नौकर के कमरे से मिली डायरी में उसने लिखा है कि "मैं अपनी जिंदगी से नफरत करता हूं। जीवन बस एक दुख है।" इसके साथ ही डायरी के पन्ने पर मोबाइल फोन की बैटरी का चित्र बनाया गया है, जिसके साथ लिखा है "मेरी जिंदगी सिर्फ 1%, प्यार 0%, तनाव 90%, दुख 99% और फर्जी मुस्कराहट 100%"। नौकर ने डायरी में लिखा है "प्रिय माैत, मेरी जिंदगी मे आओ, मुझे अफसाेस है कि मेरे दिन, सप्ताह, महीने, साल, जिंदगी सब खराब हैं।"

'प्रॉब्लम ये है कि आगे हमारा क्या होगा'

इसके अलावा यासिर की डायरी में हिंदी गीत 'भुला देना मुझे भी' लिखा है। पुलिस के अनुसार यह सभी चीजें नौकर की विक्षिप्त मानसिकता को दर्शा रही हैं। नौकर ने डायरी में यह भी लिखा है "मैं जैसी जिंदगी जी रहा हूं, मुझे उससे कोई प्रॉब्लम नहीं है... प्रॉब्लम इस बात से है आगे हमारा क्या होगा।"

आक्रामक मिजाज का था यासीर

पुलिस ने यह भी दावा किया है कि यासीर का आक्रामक मिजाज का था और वह अवसाद में था। जेल महानिदेशक हेमंत कुमार लोहिया की हत्या सोमवार रात को जम्मू के उदयवाला स्थित उनके दोस्त के घर में की गई। वह दोस्त के साथ अपने नौकर यासीर को वहां लेकर गए थे।

छह महीने से कर रहा था काम

हत्या के बाद से उनका नौकर फरार हो गया था। यासीर अभी छह महीने पहले ही काम पर लगा था। पुलिस नौकर के आतंकी कनेक्शन की जांच भी कर रही है। गिरफ्तारी के बाद से उससे पूछताछ लगातार जारी है।

आतंकी संगठन PAFF ने ली है हत्या की जिम्मेदारी

पुलिस का कहना है कि अभी तक उसका कोई आतंकी कनेक्शन सामने नहीं आया है। मालूम हो कि एक आतंकी संगठन पीएएफएफ ने इस हत्या की जिम्मेदारी ली है। पुलिस उस संगठन के जारी पत्र की भी जांच कर रही है।

Edited By: Rahul Sharma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट