राज्य ब्यूरो, जम्मू : पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एक युग पुरुष थे। उन्होंने कश्मीर के लोगों में अविश्वास की भावना को दूर किया। अगर उन्हें कुछ और समय काम करने के लिए मिलता तो इस उपमहाद्वीप का इतिहास बदल सकता था। वह ऐसेराजनेता थे, जिन्होंने निस्वार्थ भाव से देशवासियों के भविष्य को बेहतर बनाने की कोशिश की।

इन विचारों के साथ पूर्व प्रधानमंत्री को वीरवार शाम जम्मू के कन्वेंशन सेंटर में आयोजित सर्वदलीय प्रार्थना सभा में श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। सरकार बनाने के लिए अंदर ही अंदर तैयारियों के चलते वाजपेयी की प्रार्थना सभा में प्रदेश भाजपा, नेशनल कांफ्रेंस व कश्मीर केंद्रित पीपुल्स कांफ्रेंस एक पंच पर आए। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी, कांग्रेस व पैंथर्स पार्टी के नेता व कार्यकर्ता इस प्रार्थना सभा से दूर रहे।

सर्वदलीय सभा में पीपुल्स कांफ्रेंस के चेयरमैन व पूर्व मंत्री सज्जाद लोन ने वाजयेपी की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने तब कश्मीरियों के दिल जीते थे, जब कश्मीर बनाम केंद्र की भावना थी। वाजपेयी ने बेहतर संवाद से लोगों के दिलों से अविश्वास को दूर किया। लोन ने कहा कि जब मेरे पिता की हत्या हुई तो वाजपेयी ने मुझसे फोन पर कहा था कि रोना नहीं, कायर नही बनना। झूठ पर आधारित रीति को तोड़ कर आगे बढ़ो। मैंने उनकी सीख का पालन किया। इतिहास में वाजपेयी को एक नेता के रूप में नहीं बल्कि एक राजनेता के रूप में याद रखा जाएगा। वह तीन पीढि़यों के लिए प्रेरणास्रोत थे। हम बचपन में भी कश्मीर में उनका भाषण सुनने चले जाते थे।

वहीं,देवेन्द्र ¨सह राणा ने वाजपेयी की नीतियों की सराहना करते हुए कहा कि अटल कुछ और समय ¨जदा रहते तो भारत, पाकिस्तान में संबंध बेहतर हो सकते थे। अटल ने एक राजनेता के दोनों देशों में हालात बेहतरी की दिशा में कदम उठाए थे। अब दोनों देशों में नेता तो हैं पर राजनेताओं की कमी है। राणा ने कहा कि उनकी विचारधारा भले ही अलग रही हो, लेकिन देश में युद्ध छिड़ने पर वे एक थे। राणा ने कहा कि इस समय एकजुट होकर देश के लिए एक विचारधारा अपनाना ही वाजपेयी को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रविंद्र रैना ने पूर्व प्रधानमंत्री को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि वह युग पुरूष थे। उनके जाने से देश को बड़ी क्षति पहुंची है। भले ही अटल आज हमारे बीच न हों लेकिन वह देशवासियों के दिलों में हमेशा ¨जदा रहेंगे। उनके बताए रास्ते पर चलना ही वाजपेयी को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। विधानसभा के स्पीकर डॉ. निर्मल ¨सह व सांसद जुगल किशोर शर्मा ने वाजपेयी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि वह हमेशा देश व समाज के लिए समर्पित रहे। पूर्व उपमुख्यमंत्री कविंद्र गुप्ता ने भी वाजपेयी के योगदान पर विचार व्यक्त किए। डोगरा सदर सभा के प्रधान गुलचैन ¨सह चाढ़क ने कहा कि वाजपेयी चंदन का एक ऐसा पेड़ थे, जिनकी महक पूरी देश में फैली। प्रार्थना सभा में भाजपा नेताओं, संघ के पदाधिकारियों ने अटल के साथ बिताए दिनों की यादों को ताजा किया।

अटल को श्रद्धासुमन अर्पित करने वालों में आरएसएस के कई स्वयंसेवक, जम्मू बार एसोसिएशन के प्रधान बीएस सलाथिया, चैंबर ऑफ कॉमर्स, ब्राहमण सभा, राजपूत सभा, गुरु रविदास सभा, सनातन धर्म सभा, फेडरेशन ऑफ ट्रेडर्स, ट्रांसपोर्टर व लघु उद्योग संगठन के पदाधिकारी भी शामिल थे।

सर्वदलीय प्रार्थना सभा में मौजूद भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में महासचिव अशोक कौल, पूर्व मंत्री सत शर्मा, चन्द्र प्रकाश गंगा, शाम चौधरी, बाली भगत, सुखनंदन चौधरी, शक्ति परिहार, राजेश गुप्ता, डॉ. कृष्ण लाल, कुलदीप कुमार, नीलम लंगेह, एमएलसी अशोक खजूरिया, चरणजीत ¨सह खालसा, सुरेन्द्र अंबरदार, अजातशत्रु, गिरधारी लाल रैना, रमेश अरोड़ा, रछपाल वर्मा, विरेन्द्र जीत ¨सह, सतीश शर्मा, पवन शर्मा, पूर्णिमा शर्मा, सुरेश जम्वाल, नंद किशोर, अजय मगोत्रा, प्रद्युमन ¨सह, डॉ. अली मोहम्मद मीर, संजय बड़ु, अजय परगाल व डॉ. प्रदीप महोत्रा मौजूद थे। मंच संचालन प्रदेश महासचिव डॉ. नरेन्द्र ¨सह ने किया।

Posted By: Jagran