जागरण टीम, आरएसपुरा/सांबा : मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि पाकिस्तान रमजान में गोलियां बरसा मासूमों की जान ले रहा है। मुस्लिम देश होने के नाते उसका रमजान में गोलाबारी कर खून बहाना सरासर गलत है। हमें उम्मीद थी पाक गोलीबारी व घुसपैठ बंद करेगा। अफसोस ऐसा नहीं हो रहा है। केंद्र सरकार ने राज्य में अंदरूनी संघर्ष विराम का ऐलान किया है। पाकिस्तान गोलाबारी व घुसपैठ पर रोक लगाकर शांति कायम करने में सहयोग दे।

वह शुक्रवार को जम्मू, सांबा जिलों में पाक गोलाबारी से प्रभावित लोगों की सुध लेने के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं। गोलाबारी से उपजे हालात में उनका सीमांत क्षेत्रों का यह दूसरा दौरा था। मुख्यमंत्री ने गोलाबारी में मारे गए लोगों के परिजनों को एक-एक लाख रुपये के चेक भी भेंट किए।

उन्होंने कहा कि सरकार शहरों में बॉर्डर भवन बनाएगी ताकि ऐसे हालात में पलायन करने वाले सीमांत वासियों को उनमें ठहराना संभव हो। सरकार सीमांत युवाओं की जम्मू कश्मीर पुलिस की बटालियन बनाने, नियंत्रण रेखा की तर्ज पर अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे गांवों के लोगों को भी सुविधाएं देने की दिशा में काम करेगी। सीमांत अस्पतालों व वेटरनरी केंद्र में बेहतर सुविधाएं, स्टाफ देने की दिशा में भी कदम उठाए जाएंगे। राज्य प्रशासन के अधिकारियों को लोगों के मसले हल करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने जम्मू जिले के आरएसपुरा, आइटीआइ, चकरोई फार्म, सतराइयां, सांबा जिले के विजयपुर, रामगढ़, सांबा क्षेत्रों का दौरा कर गोलाबारी प्रभावितों की सुध ली। उनके साथ मंत्री और प्रशासन के कई वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

Posted By: Jagran