जम्मू, राज्य ब्यूरो। उत्तर भारत का पहला स्पेस सेंटर जल्द जम्मू में स्थापित किया जाएगा। यह सेंटर शोध, अकादमिक व पीजी कोर्स को समर्पित होगा। प्रधानमंत्री कार्यालय के राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने दिल्ली में यह खुलासा किया।

उन्होंने कहा कि सेंट्रल यूनिवर्सिटी में यह केंद्र स्थापित होगा। साराभाई जन्मशताब्दी समारोह के उपलक्ष्य में डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि खगोल अनुसंधान पहले दक्षिण भारत तक ही सीमित था। ऐसे में पिछले चार वर्षो से लगातार प्रयास किए जा रहे थे कि स्पेस रिसर्च को देशों के अन्य हिस्सों तक पहुंचाया जाए। ऐसे में जम्मू में जल्द बनने जा रहा उत्तर भारत का पहला स्पेस रिसर्च सेंटर राज्य के साथ पड़ोसी राज्यों के लिए भी अहम साबित होगा। इससे युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

डॉ. सिंह ने बताया कि नया केंद्र देश में अपनी विशिष्ट पहचान बनाए, इसलिए उन्होंने विश्व विख्यात वैज्ञानिक व इसरो के पूर्व चेयरमैन मंगलयान मिशन के प्रणेता डॉ. के राधाकृष्णन को इसका सलाहकार बनने का आग्रह किया था।

डॉ. राधाकृष्णन ने उनका यह आग्रह स्वीकार करने के बाद जम्मू का दौरा भी किया था। डॉ. सिंह ने कहा कि इस समय सेंट्रल यूनिवर्सिटी जम्मू में स्पेस टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट शुरू करने की प्रक्रिया जारी है। ऐसा ही एक स्पेस उत्तर पूर्वी राज्य सेंटर त्रिपुरा में भी स्थापित किया जा रहा है। यह सेंटर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी त्रिपुरा की देखरेख में कार्य करेगा।

उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए जरूरी है कि संस्थान शिक्षण के क्षेत्र में ऊंचा मुकाम हासिल करे। ऐसे प्रयास किए जा रहे हैं कि सेंट्रल यूनिवर्सिटी जम्मू जैसे शिक्षण संस्थान शिक्षा के मामले में अपनी ऐसी विशिष्ट पहचान बनाएं ताकि देश, विदेश के युवा इस विवि में शिक्षा ग्रहण करने के लिए आएं। 

Posted By: Preeti jha