Move to Jagran APP

Reasi Terror Attack: मृतकों के परिजनों को 10 लाख और घायलों को 50 हजार का मुआवजा, LG मनोज सिन्हा ने की घोषणा

रविवार को जम्मू-कश्मीर के रियासी में शिवखोड़ी से कटड़ा जा रहे बस पर आतंकी हमला (Reasi Bus Terrorist Attack) हुआ था। आतंकी हमले की जांच के लिए एनआईए (NIA) और फॉरेंसिक की टीम (Forensic Team) रियासी पहुंच गई है। इसमें ड्राइवर को भी गोली लग गई। इस आतंकी हमले में 10 लोगों की जान चली गई और 41 लोग घायल हुए है।

By Jagran News Edited By: Rajiv Mishra Published: Mon, 10 Jun 2024 11:36 AM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 11:36 AM (IST)
श्रद्धालुओं की बस पर हुए हमले की जांच करने पहुंची NIA की टीम

एजेंसी,जम्मू। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने रियासी जिले में एक बस पर हुए आतंकवादी हमले में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 10-10 लाख रुपये की मुआवजा देने की घोषणा की है। एक प्रवक्ता ने बताया कि एलजी ने घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये की मुआवजा को भी मंजूरी दी है।

आतंकवादियों ने रविवार को रियासी जिले में तीर्थयात्रियों को ले जा रही बस पर गोलीबारी की, जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई और 41 अन्य घायल हो गए। शिवखोड़ी मंदिर से कटड़ा जा रही 53 सीटों वाली बस गोलीबारी की बौछार के बाद सड़क से उतर गई और पोनी क्षेत्र के तेरयाथ गांव के पास एक गहरी खाई में गिर गई।

प्रवक्ता ने बताया कि प्रभावित लोगों को सभी आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए जिला प्रशासन द्वारा एक नियंत्रण कक्ष बनाया गया है।

NIA और फॉरेंसिक की टीम पहुंची रियासी

पुलिस की सहायता और जमीनी स्थिति का आकलन करने के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की टीम जम्मू-कश्मीर के रियासी पहुंच गई है। एनआईए की फोरेंसिक टीम भी जमीन से सबूत जुटाने में मदद करने की कोशिश कर रही है

पूर्व सरपंच ने बताया घटना के बाद का मंजर

रियासी आतंकी हमले पर पूर्व सरपंच भूषण उप्पल ने कहा कि जैसे हमें पता चला कि बस पर आतंकी हमला हुआ है, हम यहां पहुंचे और लोगों को बचाया। उन्होंने कहा कि घायल लोगों ने कि आतंकवादियों में से एक ने ड्राइवर पर हमला किया और उसके सिर में गोली मार दी।

गोली लगने से ड्राइवर ने नियंत्रण खो दिया और बस खाई में गिर गई, लेकिन उन्होंने गोलीबारी बंद नहीं की। वे 15 से 20 मिनट तक गोलीबारी करते रहे और इस वजह से कुछ और लोग गोलियों से घायल हो गए।

सेना और पुलिस ने शुरू की तलाशी अभियान

सेना, पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) सहित सुरक्षा बलों ने राजौरी जिले की सीमा से लगे तेरयाथ-पोनी-शिव खोरी क्षेत्र की घेराबंदी कर दी है। अधिकारियों ने कहा कि ड्रोन और खोजी कुत्तों सहित निगरानी उपकरणों से लैस होकर, क्षेत्र और जिले के आसपास के इलाकों में बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू किया गया है।

सूत्रों ने बताया कि हमले में शामिल आतंकवादी पड़ोसी राजौरी और रियासी के ऊपरी इलाकों में छिपे हुए हैं। इस इलाके में घने जंगल और गहरी खाइयां हैं। रियासी की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मोहिता शर्मा ने बताया कि इलाके में तलाशी अभियान शुरू कर दिया गया है।

उन्होंने बताया कि इलाके में ग्राम रक्षा समितियों को भी तैयार कर दिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि हमले में 40 से अधिक लोग घायल हुए हैं और उनमें से 10 को गोली लगी है।

यह भी पढ़ें- Terrorist Attack In Reasi: बस खाई में न गिरती तो शायद किसी को जिंदा नहीं छोड़ते आतंकी, जहां-तहां बिखरे मिले शव

राष्ट्रपति मुर्मू ने इस हमले को बताया कायराना कृत्य

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि रविवार को तीर्थयात्रियों को ले जा रही बस पर हुआ आतंकवादी हमला को एक कायराना कृत्य बताया। राष्ट्रपति मुर्मू ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में तीर्थयात्रियों को ले जा रही एक बस पर हुए आतंकवादी हमले से व्यथित हूं।

उन्होंने कहा कि यह कायराना कृत्य मानवता के खिलाफ अपराध है और इसकी कड़े शब्दों में निंदा की जानी चाहिए। देश पीड़ितों के परिवारों के साथ खड़ा है। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करती हूं।

यह भी पढ़ें- Reasi Bus Attack: 'मैं पेड़ की ओट में चला गया था नहीं तो...', बस में सवार यात्रियों ने बताई उस खौफनाक मंजर की आपबीती


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.