Move to Jagran APP

मवेशी तस्करों के सहारे 'उड़ता जम्मू' बनाने की नापाक साजिश, नशे का आदी बना कर रहे तस्करी

जम्मू संभाग समेत देश के कई राज्यों में कश्मीर से नशे की खेप भेजी जाती है। यह जगजाहिर है कि कश्मीर में मादक पदार्थ की खेप पड़ोसी देश पाकिस्तान द्वारा युवा पीढ़ी की नसों में जहर घोलने के लिए भेजी जाती है।

By Jagran NewsEdited By: Nidhi VinodiyaPublished: Thu, 25 May 2023 07:48 PM (IST)Updated: Thu, 25 May 2023 07:48 PM (IST)
मवेशी तस्करों के सहारे 'उड़ता जम्मू' बनाने की नापाक साजिश, नशे का आदी बना कर रहे तस्करी

जम्मू, दिनेश महाजन । जम्मू संभाग समेत देश के कई राज्यों में कश्मीर से नशे की खेप भेजी जाती है। यह जगजाहिर है कि कश्मीर में मादक पदार्थ की खेप पड़ोसी देश पाकिस्तान द्वारा युवा पीढ़ी की नसों में जहर घोलने के लिए भेजी जाती है।

मवेशी तस्कर अब कर रहे नशे की तस्करी 

कश्मीर में नार्को टेररिज्म के साथ सक्रिय लोगों ने अब जम्मू से कश्मीर में मवेशियों की तस्करी करने वाले लोगों को अपना शिकार बनाना शुरू किया है। अक्सर जम्मू से मवेशियों को चोरी-छुपे वाहनों में कश्मीर पहुंचाने वाले तस्करों को वहां मोटी रकम दी जाती थी, अब कश्मीर के नशा तस्करों ने जम्मू के मवेशी तस्करों को रुपये की बजाए नशे की लत लगानी शुरू कर दी है।

हेरोइन, चरस, भुक्की जैसे नशीले पदार्थों की हो रही तस्करी

मवेशियों को पहुंचाने के बदले में अब उन्हें नशे की खेप दी जा रही है कि वे इस बेचकर मोटी कमाई करे। ऐसे में मवेशी तस्कर जम्मू पुलिस के लिए अब और बड़ी चुनौती बन गए है। चोरी-छुपे वाहनों से वे कश्मीर में मवेशी पहुंचाते है और वापस में कश्मीर से हेरोइन, चरस, भुक्की जैसे नशीले पदार्थ ला रहे हैं

केस स्टडी

जम्मू संभाग के ऊधमपुर जिले में पुलिस ने एक टाटा मोबाइल गाड़ी को रोका उसके चालक शब्बीर अहमद निवासी राजौरी की तलाशी के दौरान मादक पदार्थ हेरोइन बरामद हुई थी। जब शब्बीर अहमद से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि वह जम्मू संभाग से मवेशियों को कश्मीर घाटी पहुंचाता रहा है।

यह काम वह बीते कुछ वर्षों से कर रहा था। कश्मीर में वह कुछ लोगों के संपर्क में आया, जिन्होंने उसे पहले उसे नशे का सेवन करना सिखाया और धीरे धीरे उसे नशा बेचने के काम में धकेल दिया।

जम्मू में रगूडा बन रहा नशे का सबसे बड़ा हॉस्पिटल

जिला जम्मू की बात करें तो इन दिनों नगरोटा और बागे बाहु पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाला रगूडा और रेका नशे का सबसे बड़ा हॉस्पिटल बन गया है। पहले यह इलाके मवेशी तस्करी का भी सबसे बड़ा अड्डा हुआ करता था, लेकिन अब आसानी से धन कमाने के चक्कर में यहां के युवाओं को नशा बेचने की लत गई है। इसके अलावा जम्मू शहर में कुछ और इलाके ऐसे है, जहां आसानी से मादक पदार्थों की तस्करी हो रही है।

- सतवारी का बेलीचराना

- बनतालाब, ठठर

- गोल गुजराल

- बठिंडी-सुंजवां

- चौआदी

- मराठा बस्ती

- कासिम नगर

मादक तस्करों की जम्मू पुलिस ने तोड़ी है कमर

एसएसपी जम्मू चंदन कोहली का कहना है कि जम्मू पुलिस ने रिकार्ड मात्रा में मादक पदार्थों को बीते कुछ समय में जब्त कर तस्करी में सक्रिय लोगों को गिरफ्तार है। उन्होंने लोगों से अपील की है वे आगे बढ़कर पुलिस को इस काम में सहयोग और मादक तस्करी से जुड़ी सूचनाएं दें।

जिला जम्मू पुलिस द्वारा वर्ष 2023 में 1 जनवरी से 18 अप्रैल तक मादक तस्करों पर की गई कार्रवाई

मामले दर्ज                  आरोपित गिरफ्तार

  • 116                                   155

जब्त मादक पदार्थ

  • चरस : 11 किलो
  • भुक्की : 179 किलो
  • हेरोइन : 1.5 किलो
  • गांजा : 5.5 किलो
  • नशीले कैप्सूल : 4002
  • नशीली दवाइयां : 100

This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.