श्रीनगर, जेएनएन। कश्मीर घाटी में न्यूनतम तापमान जमाम बिंदु से नीचे बना होने की वजह से शीतलहर का प्रकोप बना हुआ है। मौसम विभाग ने 11 फरवरी से एक बार फिर घाटी में बर्फबारी और बारिश का संकेत दिया है। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि 11 फरवरी की रात से 12 फरवरी तक घाटी के कई इलाकों में हल्की बर्फबारी और बारिश होने की उम्मीद है। हालांकि पिछले दिनों के मुकाबले इन दो दिनों में होने वाली बारिश व बर्फबारी कम होगी। मौसम में सुधार की वजह से जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर भी वाहनों की आवाजाही सुचारू रूप से जारी है। हाइवे पर दोनों ओर से वाहनों का आना-जारी जारी है।

पिछले दिनों के मुकाबले वीरवार को श्रीनगर सहित अन्य इलाकों में ठंड का प्रकोप अधिक देखने को मिला। शीत लहर के चलते कस्बे के मुख्य बाजारों में लोगों की आवाजाही भी कम देखने को मिली। ग्रीष्मकालीन राजधानी में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे यानी -3.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके अलावा दक्षिण कश्मीर में घाटी के प्रवेश द्वार काजीगुंड में भी पारा शून्य से नीचे -4.5 डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया।

इसके अलावा बारामुला जिला के गुलमर्ग में -9.0 डिग्री सेल्सियस, पहलगाम में -7.4 डिग्री सेल्सियस कम दर्ज जबकि कोकरनाग में -2.8 डिग्री सेल्सियस, कुपवाड़ा में -4.2 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।

जम्मू में पिछले दो दिनों से खिली धूप रहने से लोगों को राहत मिली है। यहां न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री सेल्सियस डिग्री दर्ज किया गया। इसी तरह बटोत में - 0.6 डिग्री सेल्सियस, बनिहाल में -1.4 डिग्री सेल्सियस और भद्रवाह में -1.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। मौसम विभाग के अनुसार जम्मू में अभी मौसम राहत भरा रहेगा। मौसम बेहतर रहने की वजह से पिछले एक सप्ताह से जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर भी वाहनों की आवाजाही नियमित रूप से जारी है। दोनों ओर से वाहन आ-जा रहे हैं। हालांकि श्रीनगर लेह राष्ट्रीय राजमार्ग और पुंछ से घाटी को जोड़ने वाला मुगल रोड अभी भी बर्फ पड़ने की वजह से बंद है। हालांकि प्रशासन का कहना है कि दोनों ही मार्गों पर बर्फ हटाने का काम जारी है। मौसम खराब नहीं हुआ तो ये दोनों मार्ग भी वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया जाएगा।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस