Move to Jagran APP

Maa Vaishno Devi: वैष्णो देवी धाम पर श्राइन बोर्ड ने शुरू की अनोखी पहल, अब प्रसाद के रूप में भक्तों को मिलेगी ये चीज

माता वैष्णो देवी के धाम पर अब श्रद्धालुओं को प्रसाद के रूप में पौधे वितरित किए जाएंगे। श्राइन बोर्ड की ओर से स्थापित किए जाने वाले हाईटेक काउंटर में मां के दर्शन को आने वाले श्रद्धालुओं को करीब 70 वन प्रजातियों और 60 बागवानी प्रजातियों के उन्नत किस्म के पौधे उपलब्ध होंगे। इस पहल के चलते आम जन में पर्यावरण को लेकर जागरूकता फैलगी।

By Prince Sharma Edited By: Prince Sharma Published: Sat, 18 May 2024 08:24 PM (IST)Updated: Sat, 18 May 2024 08:24 PM (IST)
Maa Vaishno Devi: वैष्णो देवी धाम पर श्राइन बोर्ड ने शुरू की अनोखी पहल, अब प्रसाद के रू

संवाद सहयोगी, कटड़ा। Maa Vaishno Devi Dham:  ग्लोबल वार्मिंग से हर कोई चिंतित है, जिसको लेकर सरकार की ओर से कई तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। इन सबके बीच श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड पर्यावरण संरक्षण को लेकर अनूठी पहल करने जा रहा है।

श्राइन बोर्ड जून माह के प्रथम सप्ताह से देशभर से मां वैष्णो देवी के दर्शन को आने वाले श्रद्धालुओं को प्रसाद के रूप में विभिन्न प्रजातियों के पौधे देगा।

हालांकि श्राइन बोर्ड प्रशासन श्रद्धालुओं को पौधे निश्शुल्क तो उपलब्ध नहीं करवाएगा, परंतु बहुत ही कम मूल्य श्रद्धालुओं से लिया जाएगा। श्राइन बोर्ड श्रद्धालुओं को ₹10, 20 और ₹50 रुपये में विभिन्न प्रजातियों के पौधे उपलब्ध करवाएगा।

पर्यावरण को लेकर आमजन होंगे जागरूक

इस अभियान से एक ओर जहां स्थानीय लोगों व श्रद्धालुओं में पर्यावरण संरक्षण को लेकर जागरूकता बढ़ेगी तो दूसरी ओर मां वैष्णो देवी के प्रसाद के रूप में मिले पौधे को श्रद्धालु अपने-अपने घरों में स्थापित कर इसकी देखभाल भी करेंगे।

इसको लेकर श्राइन बोर्ड कटड़ा के मुख्य बस अड्डे पर स्थित निहारिका कांप्लेक्स परिसर में हाईटेक काउंटर स्थापित करने जा रहा है, जिसका काम कुछ दिनों में शुरू कर दिया जाएगा। इस अनूठी पहल से एक ओर जहां आमजन में पर्यावरण को लेकर जागरूकता बढ़ेगी तो दूसरी ओर अन्य संस्थान भी पर्यावरण को लेकर सक्रिय होंगे।

कई किस्मों के पौधै रहेंगे मौजूद

श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के वन अधिकारी एसीएफ विनय खजूरिया ने बताया कि श्राइन बोर्ड की ओर से स्थापित किए जाने वाले हाईटेक काउंटर में मां के दर्शन को आने वाले श्रद्धालुओं को करीब 70 वन प्रजातियों और 60 बागवानी प्रजातियों के उन्नत किस्म के पौधे उपलब्ध होंगे और अपनी मन पसंद के अनुसार श्रद्धालु पौधे बहुत ही कम पैसे देकर ले सकेंगे।

निस्संदेह श्रद्धालु प्रसाद के रूप में इन पौधों को संजोकर रखेंगे और उसकी पूरी तरह से देखभाल करेंगे। इन पौधों में आंवला, जामुन, अमरूद, सुखचैन, स्नेक प्लांट, सिगोनियम, अर्जुन, शीशम, दरेक आदि शामिल हैं।

विनय खजूरिया ने बताया कि जागरूकता अभियान को लेकर इसकी शुरुआत बीते दो-तीन साल पहले श्राइन बोर्ड की ओर से की गई है, जिसके तहत स्थानीय ग्रामीणों व किसानों को श्राइन बोर्ड की ओर से कटड़ा के पैंथल ब्लाक के कुनिया गांव में स्थापित हाईटेक नर्सरी से बहुत ही कम दाम पर विभिन्न प्रजातियों के पौधे उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। वर्ष 2022-2023 में करीब 5,500 पौधे किसानों को उपलब्ध करवाए गए थे।

वहीं, यह आंकड़ा बढ़कर वर्ष 2023-2024 में 11,000 के करीब पहुंच गया है और निरंतर किसानों में पौधों को लेकर जागरूकता बढ़ती जा रही है। इसी अभियान को आगे बढ़ाते हुए श्राइन बोर्ड अनूठी पहल करने जा रहा है। अब स्थानीय किसानों के साथ ही श्रद्धालुओं को भी पौधे उपलब्ध होंगे।

श्राइन बोर्ड ने कटड़ा के पैंथल ब्लाक में स्थापित की है हाईटेक नर्सरी 

श्राइन बोर्ड ने मां वैष्णो देवी के त्रिकुटा पर्वत को हरा-भरा करने को लेकर वर्ष 2015 में कटड़ा के पैंथल ब्लाक के कुनिया गांव में हाईटेक नर्सरी स्थापित की थी, जहां पर उन्नत किस्म के बीज से बेहतरीन किस्म के पौधे तैयार किए जा रहे हैं। इस नर्सरी से श्राइन बोर्ड मां वैष्णो देवी के त्रिकुटा पर्वत की श्रृंखला पर सालाना करीब डेढ़ लाख वन प्रजातियों के पौधे और ढाई लाख बागवानी प्रजातियों के पौधे निरंतर लगाता आ रहा है।

श्राइन बोर्ड के सीईओ अंशुल गर्ग ने बताया कि श्राइन बोर्ड जून माह से श्रद्धालुओं को प्रसाद के रूप में पौधे वितरित करने जा रहा है। इसको लेकर श्रद्धालुओं को बहुत ही कम मूल्य देना पड़ेगा।

पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाएगा। विश्व पर्यावरण दिवस पर ही श्रद्धालुओं को प्रसाद के रूप में पौधे वितरित करने का अभियान शुरू किया जाएगा। श्रद्धालुओं को पौधे 24 घंटे उपलब्ध होंगे।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.