श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। ट्रैफिक जाम और यात्री परिवहन की अव्यवस्था झेल रही राज्य की दोनों राजधानियों जम्मू और श्रीनगर को इससे निजात मिलेगी। राज्य प्रशासन ने लाइट मेट्रो परियोजना को हरी झंडी दे दी है। यह परियोजना पांच साल में पूरी होगी। परिस्थितियों के अनुकूल रहने पर इसका नींव पत्थर दो अक्टूबर को रखा जाएगा। आवास एवं शहरी विकास विभाग के प्रमुख सचिव धीरज गुप्ता ने योजना एवं निगरानी विभाग के प्रमुख सचिव और राज्य सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल की मौजूदगी में यह जानकारी पत्रकारवार्ता में दी।

गौरतलब है कि दैनिक जागरण ने 27 जून के अंक में नई लाइफ लाइन होगी लाइट मेट्रो शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी जिसमें पूरी परियोजना की विस्तृत जानकारी दी गई थी। श्रीनगर में धीरज गुप्ता ने बताया कि श्रीनगर और जम्मू के लिए लाइट रेल व्यवस्था को अपनाया जा रहा है जो देश में अपनी तरह की पहली व्यवस्था है। यह परियोजना दो चरणों में पूरी होगी। पहले चरण की अनुमानित लागत 8500 करोड़ रुपये है। यह राशि केंद्र से वित्तीय सहायता, राज्य की इक्विटी और विभिन्न वित्तीय संस्थानों से ऋण के आधार पर जुटाई जाएगी।

रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकोनामिक सर्विस राइटस की टीम योजना जायजा लेगी

उन्होंने बताया कि हमारी तरफ से डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) के लिए सभी आवश्यक तैयारियों को अंतिम रूप दिया है। रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकोनामिक सर्विस राइटस के विशेषज्ञों की टीम अगले 15-20 दिनों में श्रीनगर और जम्मू में प्रस्तावित मेट्रो योजना का जायजा लेगी। इसके बाद हम संबधी डीपीआर को अनुमोदन के लिए राज्य व केंद्र सरकार को भेजेंगे ताकि परियोजना शुरू करने के लिए आवश्यक निधि को प्रज्ञत किया जा सके।

पहले चरण में श्रीनगर में 25 जम्मू में 23 किलोमीटर बिछाई जाएगी लाइन

एक अन्य सवाल पर गुप्ता ने बताया कि पहले चरण में श्रीनगर में एचएमटी जंक्शन से इंदिरानगर तक और उसमानाबाद से हजूरीबाग तक दो कारीडोर बनेंगे। इनकी कुल लंबाई 25 किलोमीटर होंगी। 24 स्टेशन बनेंगे। श्रीनगर में इस परियोजना के दूसरे चरण में भी 17.5 किलोमीटर लंबी लाइन में 14 स्टेशन होंगे। इसमें एक कॉरीडोर इंदिरानगर से पांपोर तक होगा और दूसरा हजूरी बाग से एयरपोर्ट तक बनेगा। जम्मू में भी यह परियोजना दो चरणों में तैयार होगी और प्रत्येक चरण में दो कॉरीडोर होंगे। पहले चरण में बनतालाब से ग्रेटर कैलाश तक और उदयवाला से एग्जीबिशन ग्राउंड तक दो कॉरीडोर बनेंगे। इनकी कुल लंबाई 23 किलोमीटर होगी और इनमें 23 स्टेशन आएंगे।

दूसरे चरण में 20.5 किलोमीटर बिछाई जाएगी लाइन

दूसरे चरण में ग्रेटर कैलाश से बाड़ी ब्राह्मणा रेलवे स्टेशन तक और एग्जीबिशन ग्राउंड से सतवारी से आगे एयरपोर्ट तक तक दो कॉरीडोर बनेंगे। इसकी कुल लंबाई 20.5 किलोमीटर होगी। इसमें 17 स्टेशन होंगे। उन्होंने बताया कि राज्यपाल की अध्यक्षता में सात जून को हुई राज्य प्रशासनिक परिषद की बैठक में एलीवेटिड कॉरीडोर लाइट रेल सिस्टम का प्रस्ताव पारित किया था। 

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप