किश्तवाड़, जेएनएन: किश्तवाड़ जिले के डच्चन के हंजंर गांव में वीरवार सुबह तड़के बचाव अभियान फिर से शुरू हो गया। अभी भी गांव के 19 लोग लापता हैं, जिनमें 8 महिलाएं शामिल हैं। देर रात बारिश के कारण पहाड़ से मलवा आ जाने की वजह से बचाव कार्य को रोकना पड़ गया था। बादल फटने के कारण हंजंर गांव में अभी तक सात लोगों की मौत हो गई है जबकि 17 लोगों को बचा लिया गया है। हालांकि पांच घायलों की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है।

पुलिस, सेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ व स्थानीय लोगों ने तड़के मौसम साफ होते ही बचाव कार्य को तेजी से शुरू कर दिया था। बचाव दल इसी प्रयास में है कि जल्द से जल्द लापता लोगों को पता लगाया जाए ताकि उनकी जान बच सके। सुबह से जारी बचाव कार्य के दौरान अभी तक किसी लापता व्यक्ति का पता नहीं चल पाया है।

प्रदेश प्रशासन के अलावा केंद्र सरकार बचाव अभियान पर नजर रखे हुए है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह ने पहले ही प्रदेश सरकार को बचाव कार्य में तेजी लाने के लिए हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया है।

वहीं प्रशासन ने लापता व्यक्तियों के नाम जारी किए हैं। इनमें आठ महिलाओं समेत 19 लोग शामिल हैं। इनके नाम साजा बेगम (60) पत्नी गुलाम मोहिउदीन, खुर्शीद अहमद (31) पुत्र मोहम्मद इकबाल, फिदा हुसैन (26) पुत्र मोहम्मद रमजान, मोहम्मद शरीफ (40) पुत्र गुलाम रसूल, अलमीना तस्बसुम (22) पुत्री मोहम्मद इकबाल, माता बेगम (45) पत्नी लाला तांत्री, गुलाम मोहम्मद (70) पुत्र गुलाम रसूल, फजल हुसैन (18) पुत्र रुस्तम अली चोपन, तारिक हुसैन (50) पुत्र नजीर अहमद, जरीना बेगम (40) पत्नी तारिक हुसैन, माता बेगम (45) पत्नी गुलाम रसूल, फातिमा बेगम (56) पत्नी गुलाम अहमद, बशीर अहमद (45) पुत्र रुस्तम अली, बेगम (45) पत्नी अब्दुल रहमान, शरीफा बेगम (38) पत्नी गुलाम मोहम्मद, शाकिर हुसैन (22) पुत्र गुलाम अहमद, गुलाम अहमद (65) पुत्र अब्दुल अजीज, जुबैदा बानो (25) पुत्री गुलाम अहमद और खालिद पुत्र हाजी गामी शामिल हैं।

किश्तवाड़ प्रशासनिक अधिकारियों ने कहा कि अभियान में तेजी लाने के लिए अतिरिक्त दलों को घटना स्थल की ओर रवाना किया गया है परंतु खराब मौसम और कठिन इलाकों के कारण देरी हो रही है। आपको जानकारी हो कि उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने गत बुधवार को ही किश्तवाड़ प्राकृतिक आपदा में जान गंवाने वालों के परिजनों के लिए 5-5 लाख रुपये की अनुग्रह राशि जारी करने की घोषणा कर दी है।

वहीं एडीजीपी जम्मू जोन मुकेश सिंह (आईपीएस) भी बुधवार देर कल रात किश्तवाड़ जिले में पहुंच गए थे। उन्होंने जिला अस्पताल का दौरा किया जहां उन्होंने घायलों से मुलाकात की।

Edited By: Rahul Sharma