जम्मू, जागरण संवाददाता : विस्थापित कश्मीरी पंडितों की संस्था जगटी टनिमेंट कमेटी व सोन कश्मीर ने कहा है कि वर्तमान में कोरोना के दौर में विस्थापित कश्मीरी पंडितों के स्वास्थ्य का ध्यान रखने के लिए प्रशासन जरूरी कदम उठाए। जगटी में स्थित सरकारी अस्पताल में जरूरी सुविधाएं मुहैया कराई जाएं।

प्रधान शादी लाल पंडिता ने वर्चुअल बैठक में कहा कि कोरोना काल चल रहा है मगर जगटी में जरूरी बंदोबस्त है ही नही। उन्होंने कहा कि जगटी के विस्थापित कालोनी में करीब 4500 परिवार रहते हैं। इनकी सेहत को लेकर प्रशासन गंभीर तो बने। हर पल जगटी में एंबुलेंस मौजूद रहनी चाहिए। यहां स्थित अस्पताल में चार पांच एंबुलेंस का बंदोबस्त प्रशासन द्वारा किया जाना चाहिए।

आक्सीजन व वेंटीलेंटर की सुविधाएं यहां के अस्पताल में यकीनी बनाई जानी चाहिए। सबसे बड़ी बात यह कि जगटी में कोरोना केयर सेंटर बनाए जाने की सख्त जरूरत है। शादी लाल पंडिता का कहना है कि जगटी में रह रहे विस्थापित कश्मीरी पंडित परिवार पहले ही आर्थिक तौर पर संकट के दौर से गुजर रहे हैं। ऐसे में अतिरिक्त दवाइयों पर यह लोग और ज्यादा पैसा नही खर्च सकते। इसलिए जगटी में कोविड केयर सेंटर का खोला जाना बेहद जरूरी है।

उन्होंने कहा कि वर्तमान के संकट के इस दौर में प्रशासन कश्मीरी पंडितों की सहायता के लिए आगे आए। हर विस्थापित परिवार को आटा, चावल मुफ्त में मुहैया कराया जाए। इसके अलावा मासिक राहत राशि में बढ़ोतरी की जाए। वर्तमान समय में हर परिवार विस्थापित परिवार को हर माह 13 हजार रुपये मिलते हैं जोकि कम हैं। इसे बढ़ा कर 25 हजार रुपये किए जाने की जरूरत है। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021