जम्मू, जागरण संवाददाता : शहर के साथ लगते गोल इलाके में उस समय तनाव व्याप्त हो गया जब क्षेत्र में अवैध तरीके से एक मस्जिद का निर्माण रुकवाने के लिए जम्मू विकास प्रधिकरण, जिला प्रशासन और पुलिस की टुकड़ियां मौके पर पहुंची। समुदाय विशेष के लोग सामने आ गए और काम को जारी रखने पर जोर देने लगे। माहौल को बिगड़ने से रोकने के लिए पुलिस ने आनन-फानन में मौका स्थल को जोड़ने वाली गलियों में तारबंदी कर दी। बाद में दबाव बनाते हुए निर्माण कार्य को रुकवा दिया गया।

घटना बुधवार की है जब जेडीए को सूचना मिली कि गोल क्षेत्र में मस्जिद का विस्तार करते हुए इसके एक और हिस्से पर लैंटर डालने का काम शुरू किया जा रहा है। जेडीए ने फौरन कार्रवाई की तैयारी की। जिला प्रशासन और पुलिस को सूचना दी गई। करीब आधे घंटे में ही टीमें मौके पर पहुंची। मौके पर पहुंची टीमों ने पाया कि वहां पहले से बनी मस्जिद का विस्तार किया जा रहा है। दलबल के साथ पहुंचे अधिकारियों को देख हर बार की तरह इस बार भी गोल में समुदाय विशेष के लोग एकत्र हो गए और काम जारी रखने पर जोर देने लगे।

अधिकारियों ने पहले तो समझाने-बुझाने का प्रयास किया लेकिन जब लगा कि यहां हालात खराब हो सकते हैं तो फौरन हरकत में आते हुए लोगों को यहां एकत्र होने से राेकने की कार्रवाई शुरू की। पुलिस ने इस स्थल को जोड़ने वाली सड़कों पर तारबंदी कर दी ताकि कोई और यहां न आए। इसके बाद पुलिस ने कार्रवाई को शुरू किया। जेडीए और प्रशासन के अधिकारियों ने काम रोकने के निर्देश दिए। समुदाय विशेष व मस्जिद निर्माण कर रहे लोगों को समझाने के प्रयास शुरू किए गए। बाद में काम रोकने पर समझौता हुआ। समुदाय के लोग भी शांत हो गए और काम को रोक दिया गया।

वाइस चेयरपर्सन बबिला रकवाल के निर्देशों पर जेडीए के डायरेक्टर लैंड मैनेजमेंट पुनीत शर्मा, तहसीलदार अमित मन्हास, खिलाफवर्जी टीम में मदन लाल शर्मा, संजीव, यशपाल, थोडू मोहम्मद आदि के साथ मौके पर पहुंची। वहीं जिला प्रशासन और पुलिस की टीमें भी मौके पर पहुंची थी।

डीएलएम पुनीत शर्मा ने कहा कि जेडीए की भूमि पर अतिक्रमण नहीं करने दिया जा रहा है। यहां काफी जमीन को जेडीए खाली करवा चुका है। आज यहां अवैध तरीके से निर्माण की जानकारी मिलने पर टीम मौके पर पहुंची और काम रुकवाया गया। इसी बीच क्षेत्र के लोगों में इस बात को लेकर दहशत फैल गई कि हर बार की तरह इस बार भी शायद समुदाय विशेष के साथ पथराव की स्थिति बन गई है। चूंकि सड़क पर तारें लगा दी गई थीं और किसी को उधर नहीं जाने दिया गया।

2007 के बाद से बदले हालात : गोल गुजराल के इस क्षेत्र में जेडीए ने वर्ष 2007 में आम लोगों के लिए 1150 प्लाट निकाले थे। लोगों से तब 9 हजार रुपये प्रति प्लाट जमा भी किए गए। बाद में जेडीए जब प्लाट काटने पहुंचा तो यहां अधिकतर जमीन पर अवैध कब्जा हो चुका था। जेडीए की टीमों पर भारी पथराव हुए। अंतत: जेडीए ने लोगों के पैसे लौटा दिए। इसी दौरान यहां इस मस्जिद का निर्माण भी हुअा। अभी भी जेडीए की काफी भूमि पर यहां अवैध कब्जा है। जेडीए ने 2014 में दोबारा यहां करीब 350 प्लाट निकाले। इनमें से कुछ को ही प्लाट दिए गए हैं। काफी जमीन पर अतिक्रमण व अवैध कब्जे हैं। जेडीए व प्रशासन की टीमों पर यहां कई बार पथराव हो चुका है। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस