जम्मू, विकास अबरोल। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर को 22 वर्ष बाद नेशनल टेबल टेनिस प्रतियोगिता की मेजबानी मिली है। जम्मू-कश्मीर टेबल टेनिस एसोसिएशन द्वारा आयोजित प्रतियोगिता मौलाना आजाद स्टेडियम के निर्माणाधीन इंडोर कांप्लेक्स में होगी।

मौलाना आजाद स्टेडियम के मल्टीपर्पज हॉल में वर्ष 1997 में सीनियर नेशनल टेबल टेनिस प्रतियोगिता हुई थी। इतने लंबे अंतराल के बाद जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनने पर पहली बार 81वीं यूथ और जूनियर नेशनल टेबल टेनिस प्रतियोगिता की मेजबानी मिली है। हालांकि वर्ष 2008 से लेकर 2012 तक जम्मू-कश्मीर को वेटरन और नार्थ जोन प्रतियोगिता की मेजबानी तो मिली लेकिन इनके सभी मुकाबले श्रीनगर में हुए। यह 22 वर्ष के बाद पहला मौका है कि एमए स्टेडियम में निर्माणाधीन नए इंडोर कांप्लेक्स में यूथ और जूनियर नेशनल टेबल टेनिस प्रतियोगिता के मुकाबले शुरू होंगे।

दो दिसंबर को उपराज्यपाल के सलाहकार फारूक खान प्रतियोगिता का उद्घाटन करेंगे

जम्मू-कश्मीर टेबल टेनिस एसोसिएशन के चेयरमैन एवं प्रतियोगिता के आयोजक सचिव अजय शर्मा ने बताया कि दो दिसंबर को उपराज्यपाल के सलाहकार फारूक खान प्रतियोगिता का उद्घाटन करेंगे। समापन 8 दिसंबर को होगा। हालांकि उप राज्यपाल जीसी मुमरू को बतौर मुख्य अतिथि प्रतियोगिता का उद्घाटन करने के लिए आमंत्रित किया गया है लेकिन अभी तक राजभवन से इस संबंध में स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है। इतना तय है कि पांच दिसंबर को उप राज्यपाल जीसी मुमरू टेबल टेनिस के टीम इवेंट के पुरस्कार वितरण समारोह में शामिल होकर पदक विजेताओं को सम्मानित करेंगे। आठ दिसंबर तक जारी रहने वाली प्रतियोगिता में देशभर के 34 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से 850 के करीब खिलाड़ी और खेल अधिकारी भाग लेंगे। खिलाड़ियों को ठहराने के लिए पूरे बंदोबस्त कर लिए गए हैं। निर्माणाधीन इंडोर कांप्लेक्स में प्रतियोगिता के शानदार आयोजन के लिए पूरे हॉल की छत पर 66 फ्लड लाइट लगा दी गई हैं। इन्हें विशेष रूप से गुजरात से आए कुशल श्रमिकों द्वारा स्थापित कर दिया गया है ताकि खिलाडिय़ों को प्रतियोगिता में मुकाबलों के दौरान किसी किस्म की कोई परेशानी न हो।

अभी अधूरा है इंडोर कांप्लेक्स का काम

गौरतलब है कि राज्य के पूर्व खेलमंत्री ताज मोहियुद्दीन ने 9 अप्रैल 2013 को नए मल्टीपर्पज इंडोर कांप्लेक्स का नींव पत्थर रखा था। उस समय बड़े-बड़े दावे किए गए थे कि इसे तीन वर्ष के भीतर पूरा कर लिया जाएगा लेकिन आज तक काम अधूरा ही है। नए इंडोर कांप्लेक्स को सात करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया जा रहा है। इसके लिए केंद्र सरकार की ओर से शहरी खेल संसाधन विकास योजना के अंतर्गत 5.5 करोड़ रुपये की राशि भी समय पर जारी की दी गई थी लेकिन ऐन वक्त पर अंत में तत्कालीन सरकार द्वारा तयशुदा राशि समय पर जारी नहीं करने भी इंडोर कांप्लेक्स के आज तक पूरा होने की एक प्रमुख वजह रही है। अब करीब-करीब इसका 90 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस