जम्मू, जागरण संवाददाता: मंगलवार को ग्रीन बेल्ट पार्क में घुसे तेंदुए का सामना करने वाले दिलावर खान का पहले भी तेंदुए से सामना हो चुका है। कुछ साल पहले राजौरी में किसी के घर में घुस आए तेंदुए को पकड़ने गई टीम में दिलावर खान भी शामिल थे।

तब तेंदुआ घर के अंदर बंद किया हुआ था जहां उसे एक दम से ट्रैंकुलाइजर गन से बेहोशी का टीका लगाना संभव नही था। ऐसे में वन्यजीव कर्मियों को सीधे कमरे में प्रवेश कर जंगला दरबाजे पर रखना था। यह इसलिए ताकि तेंदुए को जंगले के अंदर लाया जा सके। हिम्मत कर जंगला दरवाजे के समीप पहुंचा दिया।

तेंदुआ पिंजरे तक तो आया मगर पिंजरा बंद करते समय वह तकरीबन आजाद ही हो गया था। तब दिलावर खान को लगा कि वह मौत के सामने खड़ा है। मगर उसने फुर्ती दिखाई और जाल को तीव्रता से बिछा दिया। इससे यह हुआ कि जंगले से बाहर आने की कोशिश करने वाला तेंदुआ जाल में लिपट कर रह गया और उसे काबू कर लिया गया। लेकिन इस मंगलवार को तो दिलावर सिंह का सीधा सामना तेंदुए से हुआ। जंगला उठाने के लिए इस्तेमाल होने वाली रॉड उसके हाथ में थी और उसी से उसने तेंदुआ का सामना किया और अपनी व अपने साथियों की जान बचाई।

बहादुरी दिखाने वाले दिलावर खान को अब सम्मानित करने का सिलसिला आरंभ हो चुका है। रिटायर्ड वाइल्ड लाइफ वार्डन राजा सईद ने रुपयों का हार पहनाकर दिलावर खान को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि दिलावर ने जो साहस दिखाया, की प्रशंसा की जानी चाहिए। वहीं कुछ और संगठन भी दिलावर को सम्मानित करने का मन बना रहे हैं। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021