जम्मू राज्य ब्यूरो। बड़ी वारदात करने की मंशा से सामान से लोड ट्रक में छिपकर कश्मीर जा रहे जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने सटीक कार्रवाई करते हुए जम्मू के नगरोटा के बन टोल प्लाजा पर मार गिराया। आतंकवादियों को ले जा रहे ट्रक चालक, सह चालक को पकड़ लिया। उनसे नगरोटा पुलिस स्टेशन में पूछताछ की जा रही है।

उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार मारे गए आतंकवादी जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुरक्षा संस्थानों को निशाना बनाने की ताक में थे। ऐसे में भी इस हमले को अंजाम देने के लिए अपने अन्य सहयोगियों के लिए भी हथियार व गोली बारूद लेकर जा रहे है। जम्मू शहर से 28 किलोमीटर दूर बन टोल प्लाजा पर त्वरित कार्रवाई से इस बड़ी साजिश को नाकाम बना दिया गया। सर्तक सुरक्षा कर्मियों के ट्रक की तलाशी लेने पर हरकत में आए आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों पर शुक्रवार सुबह पांच बजे के करीब गोलीबारी शुरू कर दी। त्वरित कार्रवाई करते हुए टोल प्लाजा क्षेत्र की सुरक्षा में तैनात केंद्रीय रिजर्व पुलिस के जवानों ने गोलीबारी कर रहे एक आतंकवादी को मौके पर ही मार गिराया। दो अन्य ट्रक के दोनों ओर ग्रेनेड दागने के बाद गोलियां चलाते हुए बाहर निकले थे। ग्रेनेड फटने से केरिपुब के जवान संजीव कुमार व पासवान को हलकी चोटें आई।

सुबह पौने छह बजे के करीब गोलीबारी करते हुए खाई की ओर भाग निकले दो आतंकवादियों काे सेना, जम्मू कश्मीर पुलिस, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बज व सीआईएसएफ ने संयुक्त अभियान के दौरान मार गिराया। इन आतंकवादियों को मार गिराने की मुहिम के तहत सेना ने हेलीकाप्टरों व ड्रोन से इलाके को खंगाला। सूत्रों के अनुसार करीब एक किलोमीटर जंगल में चले गए आतंकवादियों की सटीक लोकेशन उस समय पता ली जब उन्हें उपर मंडरा रहे एक ड्रोन को गोली से निशाना बनाया। माेनीटर पर यह देखने के बाद सुरक्षाबलों ने इलाके को घेर कर आतंकवादियों को मार गिराया।

 

मारे गए आतंकवादियों ने बुलैटप्रूफ जैकेट पहन रखे थे, उनके पास से पांच एके राइफलें, एक पल्सर थर्मल इमेजर युक्त एम 4 स्नाइपर राइफल के साथ गोलियां, दो अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर, पांच हैंड ग्रेनेड, तीन पाउच, बारूद, दवाईयों, एनर्जी सप्लीमेंट, फैंस कटर, आईकाम रेडियाे सैट, दो मोबाईल से भरे तीन चार बैग भी बरामद हुए हैं। आतंकवादियों ने 3 एके 47 राइफलों से फायरिंग की थी जबकि दो एके 74 राइफलें व स्नाइपर राइफल कहीं डिलीवर करने के लिए प्लास्टिक में पैक थी। 

ट्रक में चालक मकबूल वानी, सह चालक व एक अन्य ट्रक चालक के कैबिन में आगे बैठे थे, तीन आतंकवादी हथियारों के साथ ट्रक में लोड़ की गई पालीविनाइल क्लोराइड की बाेरियों के नीचे छिपने के लिए बनाए एक स्थान में दुबके हुए थे।

यह स्थान ट्रक की साईड पर बने दरबाजे के साथ था। ट्रक पर तरपाल बंधा हुआ था व चालक मोहम्मद रफीक वानी व सह चालक के तरपाल हटाने को राजी न होने पर सुरक्षा कर्मियाें में शक पैदा हुआ व वे पूरे सामान की तालाशी लेने के लिए जोर जबरदस्ती पर उतर आए। इस दौरान जब ट्रक की बाडी में बने साईड डोर को खुलवाया गया ताे अंदर छिपे आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। इस गोलीबारी में पुलिस कर्मी भूमराज सिंह को हाथ में गोली लगी। पुलिस कर्मी को गोली लगने के बाद भी सुरक्षाकर्मियों ने जोर आजमाईश करते हुए आतंकवादियों को दरबाजा खोल ट्रक से बाहर नही आने दिया। चार सुरक्षा कर्मियों ने मिलकर दरबाजे को बाहर से बंद कर चीख चीख कर सुरक्षा कर्मियों को सचेत कर दिया कि अंदर आतंकवादी छिपे हैं। 

इसके बाद गोलीबारी करते हुए ट्रक के उपरे से बोरियां हटाकर निकलने की कोशिश में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की 137 बटालियन की अल्फा कपंनी ने टोल प्लाजा कार्यालय की छत से एक आतंकवादी को मौके पर ही मार गिराया। टोल प्लाजा पर दाईं ओर से केरिपुब व बाईं अोर से सीआईएसएफ की गोलीबारी में फंसे दो आतंकवादियों ने गोलीबारी करते हुए खाई में कूद कर जंगल में बच निकलने की कोशिश की। सुरक्षाबलों ने इन आतंकवादियों को भी घेर कर मार गिराया।

 

 

मौके पर पहुंचे जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि आतंकवादी संभवता हीरानगर के दयालाचक्क इलाके से सीमा पार से घुसपैठ कर आए थे, वे विदेशी लगते हैं। वे वीरवार शाम को ही इस ट्रक में छिप कर रात गुजारी थी। ट्रक चालक आतंकवादियों का ओवर ग्राउंड वर्कर था। अलबत्ता उन्होंने चालक व सह चालक को ही पकड़े जाने की पुष्टि की। उन्होंने बताया कि सितंबर 2018 की तरह इस बार भी आतंकवादियों को सामान में छिपाकर श्रीनगर तक पहुंचाने की साजिश थी। तब भी टोल प्लाजा के पास झज्जर कोटली में 3 आतंकवादी मारे गए थे। ऐसे में हम लोडेड ट्रक को लेकर सर्तकता बरतते हैं। सुरक्षाकर्मियों ने सराहनीय काम किया है। तीन आतंकवादियों से छह हथियार बरामद होने स्पष्ट करता है कि हथियार कुछ और आतंकवादियों के लिए भी थे। उन्होंने बताया कि पकड़े गए चालक के अनुसार उसने 3 ही आतंकवादियों को ट्रक में बिठाया था। डीजी ने बताया कि उन्हें 3-4 आतंकवादियों के ट्रक में होने की सूचना मिली थी, ऐसे में तीन आतंकवादियों को मार गिराने के बाद भी दोपहर तक तलाशी अभियान जारी रहा।

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

जागरण अब टेलीग्राम पर उपलब्ध

Jagran.com को अब टेलीग्राम पर फॉलो करें और देश-दुनिया की घटनाएं real time में जानें।