जम्मू, जागरण संवाददाता : सिदड़ा पुलिस ने जम्मू जिले के असराबाद इलाके से एक रोहिंग्या नागरिक को मानव तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया है। साथ ही आरोपित के दो रोहिंग्या साथियों को भी हिरासत में लिया है। आरोप है कि पकड़े गए रोहिंग्या दस-पंद्रह हजार रुपये में म्यांमार से रोहिंग्या युवतियों को खरीद कर जम्मू और श्रीनगर शहर में लाखों रुपये में बेच देते थे। इस संबंध में नगरोटा पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है।

इस मामले में पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी कुछ बोलने से बच रहे हैं। उनका कहना है कि इस मामले में कई और लोगों की गिरफ्तारी हो सकती है। मुख्य आरोपित अब्दुल शकूर पुत्र जलालदीन म्यांमार के बोल बाजार इलाके का रहने वाला है, जो इन दिनों जम्मू के असराबाद इलाके में रहता है। सिदड़ा पुलिस को सूचना मिली की अब्दुल शकूर कुछ दिन पहले एक युवती को लेकर आया था। युवती हिंदी या स्थानीय भाषा नहीं बोलती थी। अचानक एक दिन युवती गायब हो गई।

लोगों को संदेह है कि अब्दुल शकूर उस लड़की को म्यांमार से बेचने के लिए जम्मू लाया था। उसके बाद पुलिस ने अब्दुल शकूर को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। बताया जा रहा है कि अब्दुल शकूर म्यांमार की युवतियों को बेचने वाले गिरोह से जुड़ा है। मानव तस्करी गिरोह से जुड़े लोग जम्मू और श्रीनगर में म्यांमार की युवतियों को बेचते हैं। इस गिरोह के दलाल म्यांमार में सक्रिय हैं, जो वहां के गरीब परिवारों को दस-पंद्रह हजार रुपये देकर उनकी बेटियों का निकाह करवाने का झांसा देकर उन्हें पहले चोरी छुपे भारत लाते हैं और फिर ट्रेन से उन्हें जम्मू लाते हैं।

अब्दुल शकूर से मिली जानकारी के आधार पर सिदड़ा पुलिस ने नरवाल में रहे दो रोहिंग्या नागरिकों फरीद आलम और मोहम्मद यासीन को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। पुलिस इस मामले से जुड़ी अहम जानकारियों को जुटा रही है। म्यांमार से युवतियों को लाकर कहां बेचा गया है, इसके बारे में पुलिस आरोपितों से पता लगा रही है। 

Edited By: Rahul Sharma