मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

राज्य ब्यूरो, श्रीनगर। गांदरबल और श्रीनगर के विभिन्न हिस्सों में वीरवार को मतदान संपन्न होने के साथ हिंसा भड़क उठी। सुरक्षाबलों को लाठियों, आंसूगैस के अलावा हवाई फायरिंग का सहारा लेना पड़ा। इस दौरान दो पुलिस डीएसपी समेत 14 सुरक्षाकर्मी और मतदान ड्यूटी पर तैनात वाहन चालक समेत 20 लोग जख्मी हो गए। हिंसाग्रस्त इलाकों में देर रात तक तनाव बना रहा।

प्रशासन ने पुलिस व अर्धसैनिकबलों की अतिरिक्त टुकडि़यों को प्रभावित इलाकों में तैनात कर दिया है। दिनभर श्रीनगर और गांदरबल में कई जगह पुलिस और चुनाव बहिष्कार समर्थकों के बीच छिट-पुट हिंसक झड़पें हुईं। शाम को मतदान समाप्त होने के बाद जब मतदानकर्मी वोटिंग मशीनों व अन्य साजो सामान लेकर सुरक्षाबलों के पहरे में मतदान केंद्रों से निकलने लगे तो कई जगह हिंसक तत्वों ने हमला कर दिया।

गांदरबल के पांडच, गंगरहामा, कुरहामा, सईदकदल में हिंसा व आगजनी पर उतारु चुनाव बहिष्कार समर्थकों ने भड़काऊ नारेबाजी करते हुए मतदान कर्मियों व सुरक्षाबलो पर हमला करते हुए वोटिंग मशीनों को छीनने का प्रयास किया। पहले तो सुरक्षाकर्मियों ने पूरा संयम बनाए रखा, लेकिन जब हिंसक तत्वों के हमले दो पुलिस डीएसपी और अन्य सुरक्षाकर्मी जख्मी हुए तो फिर सुरक्षाबलों का संयम टूट गया।

उन्होंने लाठियां,आंसूगैस,पैलेट और हवाई फायरिंग का सहारा लेते हुए हिंसक तत्वों को खदेड़ा। श्रीनगर के हैदरपोरा में शाम को चुनाव बहिष्कार समर्थकों की हिंसक भीड़ के हमले में चालक मोहम्मद यासीन डार घायल हो गया। सुरक्षाबलों ने बल प्रयोग कर हिंसक भीड़ को खदेड़नते हुए घायल यासीन समेत सभी मतदान कर्मियों को निकाला। अस्पताल में उपचाराधीन यासीन की हालत गंभीर बनी हुई है।

संबंधित अधिकारियों ने बताया कि मतदान समाप्त होने के बाद भड़की हिंसा में 20 लोग जख्मी हुए हैं। इनमें दो डीएसपी और 12 अन्य सुरक्षाकर्मी भी हैं। सभी घायलों को अस्पताल में दाखिल कराया गया है।आइजीपी कश्मीर एसपी पाणि ने लोगों से मतदान प्रक्रिया को शांतिपू‌र्ण्र तरीके से संपन्‍न कराने और विधि व्यवस्था बनाए रखने में प्रशासन के सहयोग का आग्रह करते हुए कहा है कि गैरकानूनी व हिंसक गतिविधियों में लिप्त तत्वों के खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप