संवाद सहयोगी, बिश्नाह : मूसलधार बारिश के चलते मंगलवार रात को कोटली चाढका में एक कच्चा मकान गिर गया, जिसमें मकान मालिक का सभी सामान नष्ट हो गया। गनीमत यह रहा कि परिवार के सभी सदस्य सुरक्षित बच गए। हादसे के वक्त परिवार के सभी सदस्य कच्चे घर से बाहर थे। अन्यथा जान माल का नुक्सान भी उठाना पड़ता।

आर्थिक तंगी से जूझ रहे सोम राज का कहना है कि रात को बिजली बंद होने की वजह से वह अपने परिवार के साथ बाहर बरामदे में सो गया। तभी एक जोरदार आवाज के साथ घर गिर गया। पूरा परिवार बारिश में भीगते रहे बाद में पड़़ोसियों के घर शरण लेनी पड़ी। परिवार की चिंता है कि अब परिवार कहां और कैसे रहेगा। उ

सने प्रशासन से परिवार के रहने का कोई उचित प्रबंध करने की मांग की। पूर्व सरपंच सुरेंद्र ¨सह ने कहा कि संबंधित विभाग की तरफ से कई बार सर्वे किया गया कि जल्द ही गरीब परिवारों के इंदिरा आवास योजना के तहत मकान बनाए जाएंगें, मगर उसके बाद कोई हमारी सुध नहीं लेते। नेता भी सिर्फ वोट लेने आते हैं। उसने कहा कि मकान गिरने का यह पहला मामला नहीं। तीन दिनों में यह तीसरा मकान गिरा है।

वहीं तहसीलदार बिश्नाह सोहन लाल राणा ने मौके पर जाकर हादसे को देख और पीड़ित परिवार को हर संभव सहायता करने का भरोसा दिया। वहीं दूसरे तरफ राजपुरा में भी एक मकान जोरदार बारिश के कारण ढह गया। यहां भी परिवार के सदस्य बाल-बाल बच गए। पीड़ित परिवार ने प्रशासन ने तत्काल राहत देने की मांग की है।