श्रीनगर, संवाद सहयोगी। प्रसिद्ध डल झील में स्थित एक हाउसबोट में ठहरे 7 पर्यटकों समेत 12 लोग वीरवार सुबह उस समय बाल-बाल बच गया, जब वह हाउस बोट पानी में डूब गया।

जानकारी के अनुसार, वीरवार सुबह डल झील में कोलाहाई नामी हाउसबोट अचानक पानी में डूब गई। बताया जाता है कि घटना के समय उस हाउसबोट में 7 पर्यटक तथा हाउसबोट मालिक के परिवार के 5 सदस्य मौजूद थे। हाउसबोट के मालिक मोहम्मद यूसुफ ने कहा कि मेरे हाउसबोट में हरियाणा के 7 पर्यटक ठहरे हुए थे। हम वीरवार सुबह उन्हें चाय नाश्ता परोस रहे थे कि इसी बीच हमें लगा कि हमारी हाउसबोट असंतुलित हो गई।

हम अलर्ट हो गए और जब बाहर निकल कर जांच की तो पाया कि हमारी हाउसबोट पानी में नीच उतर रही है। हमने फौरन अपने महमानों को सतर्क किया और इसी बीच अपने पड़ोसी हाउसबोट वालों को भी सूचित किया। उन्होंने बचाव कार्रवाई कर अपनी शिकारा बोट हमारे हाउसबोट तक पहुंचाई और हमने पहले अपने हाउसबोट में ठहरे उन सात महमानों को शिकारा बोट के जरिए सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया और फिर उसके बाद मैं और मेरे परिवार के चार और लोग भी उस बोट के जरिए सुरिक्षत स्थान पर पहुंच गए।

मोहम्मद यूसुफ ने कहा कि यदि यद घटना रात में घटी होती तो हमको पता भी नही चलता और हम हाउसबोट समेत झील में डूब जाते और हमारे शव भी नहीं मिल पाते, क्योंकि हालिया बारिशों के चलते डल झील भी उफान पर है। मोहम्मद यूसुफ ने कहा, मेरी हाउसबोट पुरानी हो गई है। मैं उसकी मरम्मत करना चाहता हूं और इस सिलसिले में मैंने कई बार संबंधित विभाग से इजाजत भी मांगी थी लेकिन उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया।

यूसुफ ने कहा कि संबंधित विभाग की उदासीनता के चलते आज वह बेघर हो गया है, क्योंकि इस घटना में उसके हाउसबोट को काफी क्षति पहुंची है और वह रहने के योग्य नहीं रहा है। उसने प्रशासन से मुआवजा तथा क्षतिग्रस्त हुए उसके हाउसबोट की मरम्मत करने की अनुमति देने की अपील की।

 

Edited By: Vikas Abrol