जम्मू, जेएनएफ। जम्मू-कश्मीर, लद्दाख हाईकोर्ट ने एक साल से लापता बीएसएफ जवान की तलाश करने के लिए डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस को स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम (एसआइटी) गठित करने का निर्देश दिया है। एक सप्ताह के भीतर टीम बनाने को कहा गया है। हाईकोर्ट ने कहा कि यह टीम एसएसपी,एसपी या डीएसपी स्तर के अधिकारी की अध्यक्षता में ही गठित होनी चाहिए। इस एसआइटी की निगरानी आइजीपी स्वयं करें।

जम्मू निवासी विशाल शर्मा की मां ने अपने लापता बेटे की तलाश की मांग को लेकर मौजूदा याचिका दायर की है। याची के अनुसार उनका बेटा विशाल बीएसएफ की 113वीं बटालियन, माहतपुर, जिला नादिया, पश्चिम बंगाल में तैनात था। 14 मार्च 218 को उसके पिता की मृत्यु हो गई जिसकी उसे फोन पर जानकारी दी गई। उसने पिता के अंतिम संस्कार के लिए पहुंचने का भरोसा दिलाया लेकिन घर नहीं पहुंचा। जब बटालियन से संपर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि विशाल की पंद्रह मार्च से चौदह अप्रैल तक तीस दिन की छुट्टी मंजूर हुई थी और चौदह मार्च को वह हेड क्वार्टर से गया था। उसके बाद उसने ड्यूटी ज्वाइन नहीं की और न उसके बारे में कुछ पता चल पाया है।

याची ने कहा कि उसके बेटे को तलाश करने के लिए भी कोई कदम नहीं उठाया जा रहा और केवल कागजों में एक रिपोर्ट दर्ज करके छोड़ दी गई है। हाईकोर्ट ने एसआइटी गठित करने व लापता बीएसएफ जवान की तलाश के लिए जमीनी स्तर पर कदम उठाने के निर्देश दिए। हाईकोर्ट ने पश्चिम बंगाल पुलिस को भी इसमें सहयोग करने का निर्देश दिया।

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप