जम्मू, राज्य ब्यूरो। मिशन निदेशक जम्मू-कश्मीर भूपेंद्र कुमार और स्वास्थ्य निदेशक जम्मू डा. रेनू खजूरिया ने केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर में नेशनल हेल्थ मिशन के तहत चल रही योजनाआें की समीक्षा की। स्वास्थ्य निदेशक ने इस दौरान जम्मू संभाग के बर्फबारी प्रभावित क्षेत्रों में सभी दवाइयां और जरूरी उपकरण उपलब्ध करवाने को भी कहा। बीते वीरवार को जम्मू संभाग के कई क्षेत्रों में बर्फबारी हुई है।

बैठक में नेशनल डिवार्मिंग डे पर होने वाले कार्यक्रम पर भी चर्चा हुई। स्कूलों में उस दिन एक साल से 19 साल तक के सभी विद्यार्थियों को स्कूलों और आंगनवाड़ी केंद्रों में टेबलेट निशुल्क खाने को दी जाएगी। इसका मकयद बच्चों व किशोरों, किशोरियों के पेट में किसी भी प्रकार के संक्रमण को रोकना है। जम्मू-कश्मीर में बीस साल के करीब बच्चों को टेबलेट दी जाती है। इस दौरान यह भी बताया गया कि जल्दी ही जम्मू-कश्मीर में बायोमेडिकल उपकरणों की मरम्मत के लिए भी कार्यक्रम को अंतिम रूप दे दिया जाएगा। हालांकि इस पर अभी काम चल भी रहा है।

प्राथमिक चिकित्सा देखभाल में निशुल्क दवाइयां देने और उपकरण लगाने, मेडिकल मोबाइल यूनिट के काम और विश्व मधुमेह दिवस पर होने वाले कार्यक्रमाें पर भी विस्तार से चर्चा हुई। मिशन निदेशक ने सभी अधिकारियों को आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत मरीजों को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों में सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाने को कहा। स्वास्थ्य निदेशक को यह जानकारी दी गई कि गैर संक्रमित रोगों की स्क्रीनिंग के लिए कर्मचारियों को दी जा रही ट्रेनिंग एक महीने के भीतर पूरी हो जाएगी।

स्वास्थ्य निदेशक ने नेशनल हेल्थ मिशन के तहत चल रहे कार्यक्रमों को सख्ती के साथ लागू करने के निर्देश दिए। बैठक में जम्मू संभाग के सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों और ब्लाक चिकित्सा अधिकारियों के अलावा ड्रग कंट्रोल आर्गेनाइजेशन के अधिकारी और स्टेट हेल्थ सोसायटी के प्रोग्राम मैनेजर भी मौजूद थे।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस