राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : नए कश्मीर का केसर, सेब, कश्मीरी मसाले व अन्य उत्पाद अब दुनियाभर में धूम मचाएंगे। दुबई की लुलू ग्रुप कश्मीरी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए आगे आई है। वह सीधे किसानों से उत्पादों की खरीदारी कर रही है।

जम्मू कश्मीर के आर्थिक और सामाजिक विकास की राह में रुकावट बनकर खड़ी खानदानी सियासत और अनुच्छेद 370 के हटने के बाद विदेशी कंपनियों ने घाटी में किसानों से सीधे उनकी फसल भी खरीदना शुरू कर दी है। इसकी शुुरुआत दुबई स्थित लुलू कंपनी ने की है। इसने घाटी से 200 मीट्रिक टन सेब खरीदा है। कश्मीरी केसर व कश्मीरी मसालों का भी यह ग्रुप आयात करेगा।

लुलू का अरब देशों में जबरदस्त आधार : लुलू का अरब देशों में जबरदस्त आधार है। यह समूह दुबई, ओमान, सऊदी अरब समेत मध्य पूर्व के विभिन्न मुल्कों में 180 हायपमार्केट व शांङ्क्षपग माल्स का मालिक व संचालक हैं। समूह के मालिक युसूफ अली एमए हैं। ग्रुप के वरिष्ठ अधिकारियों के एक दल ने इसी माह की शुरुआत में कश्मीर का भी दौरा किया था।

कुछ और विदेशी कंपनियां निवेश करने जल्द आएंगी : राज्य प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लुलू गु्रप ने घाटी में कृषि और बागवानी उत्पादों की खरीद व फूड प्रोसेङ्क्षसग में निवेश करने की इच्छा जताई है। यह ग्रुप कश्मीरी केसर भी खरीद रहा है। कश्मीर में पैदा होने वाले मुश्कबुदजी चावल, काला जीरा, शहद और कुछ विशेष जड़ी-बूटियों को भी खरीदेगा। ग्रुप समूह जल्द घाटी में अपना लाजस्टिक हब स्थापित करने जा रहा है। अगर सबकुछ अनुकूल रहा तो लुलू गु्रप स्थानीय स्तर पर करीब 400 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार देगा। इसी माह की शुरुआत में राज्य के दौरे पर आए लुलु समूह के अधिकारियों ने राज्य कृषि, बागवानी, उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के अधिकारियों के साथ अलग बैठकें करने के अलावा कश्मीर के प्रमुख औद्योगिक घरानें कंबल स्पाइस, हर्ब हेवन, फ्रूट मास्टर, शालीमार कार्पेटस और अन्य शामिल हैं, के प्रोमोटरों व संचालकों से मुलाकात कर उनके साथ उनके उत्पादों के आयात-निर्यात पर विचार विमर्श किया है।

कश्मीर का सेब दुबई में: निदेशक बागवानी कश्मीर एजाज अहमद बट के अनुसार लुलू समूह ने डिलिशियस सेब खरीदा है। पहली खेप 200 टन की है जो बीते सप्ताह निर्यात की गई है। यह सेब चंद दिनों में दुबई पहुंच जाएगा। यहां तक मेरी जानकारी है, यह पहला मौका है जब किसी विदेशी व्यापारिक समूह ने घाटी में आकर खरीदारी की हो। स्थानीय बागवानों और किसानों को फायदा हुआ है। उम्मीद है कि कुछ और विदेशी कंपनियां निवेश करने जल्द आएंगी। लुलु समूह सेब के अलावा केसर भी खरीद रहा है। संबंधित किसानों और व्यापारियों के साथ बातचीत लगभग पूरी हो चुकी है। लुलु समूह अपने शॉङ्क्षपग माल्स में कश्मीर प्रोमोशन वीक कर रहा है। इससे कश्मीरी उत्पादों को बड़ा बाजार भी मिलेगा।

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप