जम्मू, जेएनएन। उत्तरी कश्मीर में उड़ी सेक्टर में स्थित एलओसी पर सेना के जवानों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरु होने की सूचना है। दोनों ओर से फायरिंग जारी है। अलबत्ता, पुलिस व सेना ने इसकी पुष्टि नहीं की है।इसी बीच उत्तरी कश्मीर में जिला कुपवाड़ा के जुगतियाल गांव में एक मदरसे के समीप से एक ग्रेनेड और एसाल्ट राइफल के पांच कारतूस मिले हैं। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के अनुसार, उड़ी स्थित एलओसी के समीप पिछले कई दिनों से सेना की ओर से तलाशी अभियान जारी है। हालांकि दो दिन पहले ही एलओसी के समीप तीन आतंकियों को मौत के घाट मुठभेड़ के दौरान मार गिराया गया था। आज यानि शनिवार शाम को एक बार फिर से वहां पर छिपे आतंकियों ने सेना के जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी। सेना के जवानों ने भी तुरंत मोर्चा संभालते हुए आतंकियों के खिलाफ फायर खोल दिए गए हैं। दोनों ओर से फायरिंग जारी है। इसी बीच पुलिस और सेना की ओर से अभी तक इसकी पुष्टि नहीं की गई है।

इससे पहले गत 23 सितंबर को भारतीय जवानों ने उड़ी जैसा हमला दोहराने की साजिश को नाकाम बना दिया था। पाकिस्तान की ओर से घुसे आतंकियों को सुरक्षाबलों ने उड़ी में एलओसी के समीप ढेर कर दिया था। मारे गए तीनों आतंकियों के पास से पांच एसाल्ट राइफल, आठ पिस्तौल, 70 ग्रेनेड और अन्य सामान बरामद हुआ था। इस मुठभेड़ में सेना का एक जवान भी घायल हो गया था जिसका अस्पताल में उपचार जारी है।

इससे पहले वर्ष 2016 में 18 सितंबर को पाकिस्तान की ओर से आए आतंकियों ने उड़ी में सेना के ब्रिगेड हैडक्वार्टर पर हमला किया था। इस हमले में 19 भारतीय जवान शहीद हो गए थे जबकि जवाब में चार आतंकवादियों को ढेर कर दिया गया था। पिछले एक सप्ताह में उड़ी सेक्टर में यह घुसपैठ की तीसरी घटना है। इससे पहले गत रविवार को उड़ी सेक्टर के अंगूरी पोस्ट और फिर गत 23 सितंबर को रामपुर सब सेक्टर के अंतर्गत हथलंगा में घुसपैठ की कोशिश में जुटे पांच आतंकियों में से तीन आतंकियों को ढेर कर दिया गया था।

Edited By: Vikas Abrol